Home » इंडिया » Pulwama Terror Attack: Jaish-e-Mohammed claims responsibility, several CRPF personnel lost their lives
 

पुलवामा आतंकी हमले का मास्टर माइंड मसूद अजहर ! साल 1999 में भारत सरकार ने कर दिया था रिहा

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 February 2019, 18:33 IST

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर आतंकियों ने CRPF के काफिले पर आत्मघाती हमला किया. इस हमले में दो दर्जन के आस-पास जवानों के शहीद होने की खबर है. न्यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार, पुलवामा के अवंतिपुरा के गोरीपारा इलाके मेंं सीआरपीएफ की गाड़ी पर हुए ब्लास्ट की जिम्मेदारी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली है.

हमले को लेकर सीआरपीएफ के डीजी ने बताया कि हाईवे पर खड़ी कार में IED प्लांट की गई थी. IED ब्लास्ट के बाद जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर सीआरपीएफ काफिले पर हमला हुआ. यह एक आत्मघाती हमला था. 

जैश-ए-मोहम्मद ने कश्मीरी न्यूज एजेंसी जीएनएस को एक टेक्स्ट मैसेज मेें यह जिम्मेदारी ली. इसके अलावा इस आतंकी संगठन ने एक वीडियो भी जारी किया है. जैश-ए-मोहम्मद का मुखिया वह मसूद अजहर है जो आज भारत के लिए नासूर बन चुका है.

मसूद अजहर साल 2016 में हुए पठानकोट एयरबेस पर हुए आतंकी हमले और सितंबर 2016 में हुए उरी हमले का भी मास्टर माइंड रह चुका है. पठानकोट आतंकी हमले से पहले मसूद अजहर का नाम भारत में पहली बार वर्ष 1994 में सुना गया था. मसूद अजहर वही आतंकी है जिसे साल 1999 में एयर इंडिया की फ्लाइट आईसी814 की हाइजैकिंग के समय भारत ने छोड़ दिया था.

मसूद अजहर का जन्म 1968 को पाकिस्तान के बहावलपुर में हुआ था और वह अपने माता-पिता की 10वीं संतान है. उसके पिता एक स्कूल में हेडमास्टर थे. मसूद अजहर के परिवार का बहावलपुर में ही डेयरी और पॉल्ट्री का बिजनेस था. स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद मसूद अजहर को कराची के बानूरी के जामिया उलूम-उल-इस्लामिया में भेजा गया. यहीं से उसने आतंकी गतिविधियों में शामिल होना चालू कर दिया था.

इसके बाद मसूद अजहर ने हरकत-उल-मुजाहिदीन की तरफ से सोवियत-अफगान युद्ध में भाग लिया. वह पैसे जुटाकर आतंकियों की भर्ती करता था. उसने सोमालिया के आतंकी संगठनों के लिए फंड इकट्ठा किया और उनके लिए काम किया. फिर साल 1994 में भारत सरकार ने श्रीनगर से उसकी गिरफ्तारी की, लेकिन साल 1999 में भारत को उसे एयर इंडिया फ्लाइट की हाइजैकिंग के बाद रिहा करना पड़ा. भारत की संसद पर हुए आतंकी हमले के पीछे भी उसका हाथ माना जाता है.

First published: 14 February 2019, 18:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी