Home » इंडिया » Pulwama terrorist attack Masood Azhar Gave nod for Pulwama attack from army base hospital in Pakistan
 

पाकिस्तान के आर्मी बेस हॉस्पिटल से अजहर ने उगला था भारत के खिलाफ जहर, पुलवामा अटैक का दिया था हुक्म

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 February 2019, 9:39 IST

पुलवामा में CRPF के काफिले पर हुए आत्मघाती हमले के निर्देश जैश-ए-मोहम्मद के मुखिया मसूद अजहर ने पाकिस्तानी आर्मी बेस के अस्पताल से दिए थे. इस हमले में 40 से ज्यादा जवान शहीद हो गए. भारत ही नहीं पूरी दुनिया में इस हमले की निंदा की जा रही है. मसून ने हमले का निर्देश पाकिस्तान के रावलपिंडी स्थित सैन्य बेस अस्पताल से दिए थे. बता दें मसूद अजहर इस अस्पताल में पिछले चार महीने से भर्ती है.

बता दें कि बिमारी की वजह से ही वो यूनाइटेड जिहाद काउंसिल की हुई पिछली 6 बैठकों से मौजूद नहीं रह पाया. पाकिस्तान  समर्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद भारत के खिलाफ जेहादी समूहों का इस्तेमाल करता रहा है. हालांकि पुलवामा हमले से आठ दिनों पहले उसने घटना को अंजाम देने की तैयारी करने वाले अपने सदस्यों के लिए एक ऑडियो संदेश जारी किया था.

इस ऑडियो संदेश में उसने कहा था कि उन्हें उसके भतीजे उस्मान का बदला लेना होगा. जिसे सुरक्षाबलों ने पिछले साल अक्तूबर में त्राल में मार दिया था. इस ऑडियो संदेश में मसूद अजहर कर रहा है, "इस युद्ध में मौत से ज्यादा आनंददायक कुछ भी नहीं है."

ऑडियो संदेश में मसूद कहता है कि किस तरह से वह भारत के खिलाफ युद्ध छेड़ना चाहता है. उसने ऑडियो संदेश में कहा, "कोई इन्हें दहशतगर्द कहेगा, कोई इन्हें निकम्मा कहेगा, कोई इन्हें पागल कहेगा, कोई इन्हें अमन के लिए खतरा कहेगा."

बता दें कि जैश-ए-मोहम्मद के मुखिया अजहर ने यूजेसी के अन्य घटकों के साथ नए हमले की अपनी योजनाओं को साझा नहीं किया. इसके बजाय अजहर ने चुपके से अपने अन्य भतीजे मोहम्मद उमेर और अब्दुल रशीद गाजी को घाटी में युवाओं का ब्रेनवॉश करने के लिए इन ऑडियो संदेशों का इस्तेमाल किया. साथ ही उन्हें IED विस्फोटकों के साथ फिदायीन हमले के लिए प्रेरित किया.

कश्मीर के इंटेलिजेंस अधिकारी ने कहा, "जेईएम का कोई भी आदमी आगे नहीं गया. वह सभी दक्षिण कश्मीर में अपने तीन नेताओं- उमेर, इस्माइल और अब्दुल राशिद गाजी के साथ छुपे हुए हैं. कश्मीर में कम से कम 60 जैश आतंकी सक्रिय हैं. जिसमें से 35 पाकिस्तान के हैं और बाकी स्थानीय हैं. उसकी गैर-मौजूदगी में हिजबुल मुजाहिद्दीन के कमांडर सैयद सलाहूद्दीन ने यूजेसी का नेतृत्व किया."

ये भी पढ़ें- Pulwama Attack: अमिताभ बच्‍चन का नेक कदम, शहीदों के परिवारों को देंगे 2 करोड़ रुपये

First published: 17 February 2019, 9:39 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी