Home » इंडिया » Punjab hooch tragedy: Death toll rose to 80, police arrest 25 people
 

Punjab Hooch Tragedy: पंजाब में मौत का तांडव, जहरीली शराब पीने के कारण 80 लोगों की कई जान, मुख्यमंत्री ने दिए जांच के आदेश

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 August 2020, 20:26 IST

पंजाब (Punjab) के तीन जिलों में बीते चार दिनों में कथित तौर पर जहरीली शराब पीने के कारण 80 लोगों की जान जा चुकी है. बीते बुधवार से तरनतारन (Tarn Taran), बटाला (Batala) और अमृतसर (Amritsar) में नकली शराब पीने के कारण 80से अधिक लोगों की जान जा चुकी है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, सबसे अधिक जान तरन तारन में गई है, जहां 64 लोगों की जान जा चुकी है, जबकि अमृतसर ग्रामीण में 12 और बटाला के गुरूदासपुर में 11 लोगों की जान जा चुकी है.

न्यूज एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस ने इस मामले में अभी तक 25 लोगों को गिरफ्तार किया है. पंजाब पुलिस ने शानिवार को कुल 100 जगह रेड मारी जिसमें उन्होंने 17 और लोगों को गिरफ्तार किया है. डीजीपी दिनकर गुप्ता ने कहा,"एक माफिया मास्टरमाइंड, एक महिला किंगपिन, एक परिवहन मालिक, एक वांछित अपराधी और विभिन्न ढाबों के मालिक और प्रबंधक हैं जहां से अवैध शराब की आपूर्ति की जा रही थी." पुलिस ने छापेमारी के दौराम भारी मात्रा में नकली शराब बनाने का सामान बरामद किया गया.


राज्य सरकार के अनुसार, इस मामले में पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Chief Minister Amarinder Singh) ने नकली शराब पीकर जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों को 2-2 लाख रूपये के मुआवजे का ऐलान किया है. इतना ही नहीं मुख्यमंत्री ने 2 डीएसपी और 4 एसएचओ के साथ 7 आबकारी और कराधान अधिकारियों और इंस्पेक्टरों को निलंबित करने और उनके खिलाफ इस मामले में जांच के आदेश दिए हैं.

इससे पहले शुक्रवार को सीएम अमरिंदर सिंह ने ट्वीट कर लिखा,"मैंने अमृतसर, गुरदासपुर और तरनतारन में जहरीली शराब की मौतों की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं. कमिश्नर, जालंधर डिवीजन जांच करेंगे और संबंधित एसएसपी और अन्य अधिकारियों के साथ समन्वय करेंगे. जो भी दोषी पाया जाएगा उसे बख्शा नहीं जाएगा."

बता दें, इस मामले के सामने आने के बाद इस घटना की जांच के लिए जालंधर के संभागीय आयुक्त द्वारा मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश दिए थे और मामले में एक एसआईटी का गठन किया गया था. आधिकारिक बयान में कहा गया था,"जांच में गौर किया जाएगा कि किस परिस्थिति में और किन वजहों से ये मौतें हुई. संभागीय आयुक्त जालंधर के साथ ही पंजाब के संयुक्त आबकारी और कर आयुक्त तथा संबंधित जिलों के एसपी द्वारा जांच की जाएगी. मुख्यमंत्री ने संभागीय आयुक्त को त्वरित जांच के लिए प्रशासन या पुलिस के किसी भी अधिकारी या अन्य विशेषज्ञ का भी सहयोग लेने की छूट दी है."

इससे पहले पंजाब के पुलिस महानिदेशक दिनकर गुप्ता ने कहा था कि जहरीली शराब पीने के कारण पहली पांच मौतें 29 जून की रात को अमृतसर ग्रामीण के थाना तरसिक्क में मुच्छल और तंग्रा से हुई थीं. इसके बाद 30 जुलाई की शाम को मुच्छल में संदिग्ध परिस्थितियों में दो और लोगों की मौत हो गई थी, जबकि एक व्यक्ति को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

UP Crime News: थाने पहुंचे युवक के सीने में लगी थी गोली, सुनाई वारदात, हैरान हो गए पुलिस वाले

First published: 1 August 2020, 20:17 IST
 
अगली कहानी