Home » इंडिया » Rafale deal: French NGO demands probe from French National Prosecutor
 

Rafale deal: फ्रांस के एंटी करप्शन NGO ने भी राफेल सौदे की जांच की मांग

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 November 2018, 9:24 IST

फ्रांस के एक एंटी- करपशन एनजीओ ने फ्रांसीसी राष्ट्रीय वित्तीय अभियोजक (National Financial Prosecutor) के कार्यालय में एक शिकायत दर्ज कराई है. इस शिकायत में  सितंबर 2016 में भारत और फ्रांस के बीच हस्ताक्षर की गई 59,000 करोड़ रुपये की राफेल डील की जांच की मांग की गई है. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार शिकायत में राफेल लड़ाकू विमान के निर्माता डेसॉल्ट एविएशन द्वारा भ्रष्टाचार के संभावित कृत्यों, अनुचित फायदे और मनी लॉंडरिंग जैसे मामलों की जांच के लये अनुरोध किया गया है.

यह शिकायत शेरपा, एक गैर सरकारी संगठन द्वारा दायर की गई है, जो अवैध वित्तीय प्रवाह, भ्रष्टाचार, मनी लॉंडरिंग, टैक्स चोरी जैसे मामलों से लड़ता रहा है. शिकायत अक्टूबर के अंत में राष्ट्रीय वित्तीय अभियोजक के कार्यालय के साथ दर्ज की गई थी, जिसमें परिस्थितियों की जांच की मांग की गई है.

गौरतलब है कि इस डील के तहत डेसॉल्ट द्वारा उत्पादित 36 लड़ाकू विमान भारत को बेचे जाने हैं. इस मामले में शेरपा ने डेसॉल्ट की पसंद की जांच की भी मांग की है. इस डील में इंडियन ऑफसेट पार्टनर अनिल अंबानी के रिलायंस समूह जिनके पास लड़ाकू विमानों निर्माण में कोई अनुभव नहीं है."

शेरपा के संस्थापक विलियम बोर्डन ने कहा, "सबकुछ इंगित करता है कि यह एक बहुत ही गंभीर मामला है," उन्होंने कहा कि "राष्ट्रीय वित्तीय अभियोजक के कार्यालय को सूचित जानकारी को जल्द से जल्द इसकी जांच करनी चाहिए. हालंकि यह स्पष्ट नहीं है कि अभियोजक के कार्यालय ने शेरपा द्वारा की गई शिकायत में पहले से ही एक जांच शुरू हुई है.

इससे पहले अक्टूबर 2016 में अभियोजक के कार्यालय ने फ्रांस द्वारा ब्राजील को स्कॉरपेने पनडुब्बियों की बिक्री में एक जांच शुर की थी, जब निकोलस सरकोज़ी फ्रांसीसी राष्ट्रपति थे तब इस अनुबंध पर हस्ताक्षर किए गए थे. जनवरी 2017 में इसे सीनेटर सर्ज डेसॉल्ट को इस मामले में दो साल की जेल की सजा दी गई थी. जिन पर मनी लॉंडरिंग और टैक्स धोखाधड़ी का आरोप लगाया गया था.

ये भी पढ़ें : भारतीय वीडियो स्ट्रीमिंग बाजार में शुरू हो चुकी है Netflix, Amazon Prime हॉटस्टार और जियो की जंग

First published: 24 November 2018, 9:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी