Home » इंडिया » Rafale deal: Not involved in choosing Indian partners in Rafale deal: French govt
 

राफेल डील : पूर्व फ्रेंच प्रेजिडेंट के खुलासे के बाद फ्रांस सरकार ने दी ये सफाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 September 2018, 9:53 IST

राफेल डील पर पूर्व फ्रांसीसी राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के खुलासे के बाद फ्रांसीसी सरकार ने शनिवार को एक बयान में कहा है कि वह भारतीय औद्योगिक पार्टनर को पसंद करने में शामिल नहीं थी, वह फ्रांसीसी कंपनियों द्वारा चुना जाना था. इससे पहले एक फ्रेंच वेबसाइट को पूर्व राष्ट्रपति ओलांद ने बताया था कि भारत सरकार ने राफेल सौदे में ऑफसेट पार्टनर के रूप में अनिल अंबानी के रिलायंस डिफेंस का प्रस्ताव दिया था.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार फ्रेंच सरकार ने कहा "फ्रांसीसी सरकार भारतीय औद्योगिक भागीदारों की पसंद में शामिल नहीं है, वह फ्रांसीसी कंपनियों द्वारा चुनी गई थी''. फ्रांस की सरकार का कहना है कि भारत की अधिग्रहण प्रक्रिया के अनुसार, फ्रांसीसी कंपनियों को भारतीय साझेदार कंपनियों को चुनने की पूरी आजादी है. फ्रांसीसी दूतावास द्वारा जारी एक बयान में यूरोप और विदेश मामलों के मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, "ऐसा होने पर, भारतीय कानूनों के ढांचे के तहत सार्वजनिक और निजी दोनों भारतीय कंपनियों के साथ फ्रांसीसी कंपनियों द्वारा अनुबंधों पर पहले ही नई दिल्ली में हस्ताक्षर किए जा चुके हैं."

 

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार अनुबंध के बारे में स्पष्टीकरण प्रदान करते हुए, दसाल्ट एविएशन ने एक बयान जारी किया जिसमें कहा गया, "यह अनुबंध सरकार से सरकारी समझौता है, यह एक अलग अनुबंध प्रदान करता है जिसमें दसाल्ट एविएशन 50% के मुकाबले भारत में मुआवजा निवेश (ऑफसेट) करने के लिए प्रतिबद्ध है.

इसमें कहा गया, "यह ऑफ़सेट अनुबंध रक्षा खरीद प्रक्रिया (डीपीपी) 2016 के नियमों के अनुपालन में दिया जाता है. इस ढांचे में और मेक इन इंडिया की नीति के अनुसार, दसाल्ट एविएशन ने भारत के रिलायंस समूह के साथ साझेदारी करने का फैसला किया है. यह दसाल्ट एविएशन की पसंद है क्योंकि सीईओ एरिक ट्रैप = आईर ने 17 अप्रैल, 2018 को मिंट अख़बार में प्रकाशित एक साक्षात्कार यह बताया था.

इस साझेदारी में फरवरी 2017 में डेसॉल्ट रिलायंस एयरोस्पेस लिमिटेड (डीआरएएल) के संयुक्त उद्यम के निर्माण की शुरुआत की है. यह भी कहा गया है कि दसाल्ट एविएशन और रिलायंस ने फाल्कन और राफेल विमान के निर्माण के लिए नागपुर में एक संयंत्र बनाया है.

First published: 22 September 2018, 9:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी