Home » इंडिया » Rafale deal: Rahul Gandhi said Modi should clarify if what the ex-French President is saying is true or false
 

ओलांद अपने बयान पर कायम, राहुल गांधी ने मांगा PM मोदी से जवाब

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 September 2018, 16:22 IST

शनिवार को पूर्व फ्रांसीसी राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के कार्यालय ने कहा कि वह अपने दावे पर अभी भी कायम हैं. एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार ओलांद की टिप्पणी फ्रांसीसी सरकार और रक्षा फर्म डेसॉल्ट एविएशन के कुछ घंटों बाद आई है. जिन्होंने इन दावों का खंडन किया था.

शुक्रवार को एक फ्रांसीसी मीडिया आउटलेट से इंटरव्यू में ओलांद ने कहा था कि राफेल सौदे के लिए अंबानी की कंपनी चुनने के अलावा उनकी सरकार कोई कोई विकल्प नहीं दिया गया था. ओलांद ने दावा किया कि भारत सरकार ने समझौते के लिए रिलायंस डिफेंस के नाम का प्रस्ताव दिया था.

 ये भी पढ़ें :  राफेल डील : पूर्व फ्रेंच प्रेजिडेंट के खुलासे के बाद फ्रांस सरकार ने दी ये सफाई

वहीं शविवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल ओलांद के दावे के बाद मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा है. उन्होंने कहा पीएम मोदी बताएं, फ्रांस्वा होलांद ने जो कहा है, वह सही है या नहीं? इससे पहले ओलांद ने अपने बयान केएक दिन बाद समाचार एजेंसी एएफपी स दोहराया कि उनकी सरकार ने रिलायंस का चयन नहीं किया था. उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें पता नहीं था कि भारत ने रिलायंस और डेसॉल्ट पर एक साथ काम करने का दबाव डाला था.

शुक्रवार को फ्रांस ने कहा कि फ्रांसीसी कंपनियों के औद्योगिक भागीदारों को चुनने में वह किसी भी तरह से शामिल नहीं है. यूरोप और विदेश मामलों के फ्रांसीसी मंत्रालय के बयान में कहा गया है कि राफेल जेट सौदे में पेरिस का एकमात्र दायित्व विमान और भारत की गुणवत्ता को सुनिश्चित करना था.

एक अलग बयान में डेसॉल्ट एविएशन ने कहा कि उसने परियोजना के लिए रिलायंस डिफेंस चुना था. सितंबर 2016 में भारत और फ्रांस के बीच सौदा पर हस्ताक्षर किए गए थे. जिसके अंतर्गत नई दिल्ली 59,000 करोड़ रुपये में 36 राफले विमान खरीदने के लिए तैयार हो गई.

उसी साल रिलायंस डिफेंस डेसॉल्ट रिलायंस एयरोस्पेस लिमिटेड के माध्यम से सौदे के ऑफ़सेट कार्यक्रम में शामिल हो गया, जिसमें उसकी 51 प्रतिशत की हिस्सेदारी है डेसॉल्ट एविएशन का इसमें 49 फीसदी हिस्सा है. रिलायंस और डेसॉल्ट ने अक्टूबर 2016 में भारत में एक संयुक्त उद्यम की घोषणा की थी.

First published: 22 September 2018, 16:20 IST
 
अगली कहानी