Home » इंडिया » Rafale In India: Five Rafale landed safely at Ambala airbase, Defense Minister also thanks France
 

Rafale In India: अंबाला एयरबेस पर कुछ इस अंदाज में उतरे राफेल, रक्षा मंत्री ने किया स्वागत

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 July 2020, 15:50 IST

Rafale In India: फ्रांस से आ रहे पांच राफेल फाइटर जेट्स के पहले बैच ने अंबाला एयर बेस में सुरक्षित लैंडिंग कर ली है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अपने ट्विटर से इसकी जानकारी दी. उन्होंने लिखा कि जेट्स अंबाला में सुरक्षित रूप से उतर गए हैं. भारत में राफेल लड़ाकू विमानों का टच डाउन हमारे सैन्य इतिहास में एक नए युग की शुरुआत है. ये मल्टीरोल विमान क्रांतिकारी बदलाव लाएंगे.

रक्षा मंत्री ने कहा ''मैं भारतीय वायुसेना को बधाई देता हूं. मुझे यकीन है कि 17 स्क्वाड्रन, गोल्डन एरो, "उदयम अजाश्रम" के अपने आदर्श वाक्य को जीना जारी रखेंगे. मुझे बेहद खुशी है कि IAF की युद्धक क्षमता को समय पर बढ़ावा मिला है.'' उन्होंने कहा ''मैं COVID महामारी प्रतिबंधों के बावजूद विमान और उसके हथियारों की समय पर डिलीवरी सुनिश्चित करने के लिए फ्रांसीसी सरकार, डसॉल्ट एविएशन और अन्य फ्रांसीसी कंपनियों को धन्यवाद देता हूं''.


रक्षा मंत्री ने कहा ''राफेल जेट खरीदने में पीएम नरेंद्र मोदी की बड़ी भूमिका रही. उन्होंने फ्रांस के साथ एक समझौते के माध्यम से इन विमानों को प्राप्त करने के लिए सही निर्णय लिया, क्योंकि लंबे समय तक खरीद के मामले में प्रगति नहीं हो रही थी. मैं उनके साहस और निर्णायकता के लिए धन्यवाद देता हूं''.

भारत में पहला राफेल लैंड करवाएंगे ग्रुप कैप्टन हरकीरत, 12 साल पहले हवा में किया था हैरतअंगेज कारनामा

रक्षा मंत्री ने आगे कहा ''इस विमान का फ्लाइंग परफॉरमेंस अच्छा है, इसके हथियार, रडार और अन्य सेंसर और इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर क्षमताएं दुनिया में सर्वश्रेष्ठ हैं. भारत में इसका आगमन भारतीय वायुसेना को हमारे देश पर आने वाले किसी भी खतरे को रोकने के लिए मजबूत बनाएगा''.

इससे पहले अरब सागर में तैनात भारतीय नौसेना के युद्धपोत आईएनएस कोलकाता द्वारा लड़ाकू जेट का स्वागत किया गया. भारतीय वायु सेना (IAF) के पायलटों द्वारा उड़ाए जा रहे पांच लड़ाकू विमान, एयर-टू-एयर ईंधन भरने और संयुक्त अरब अमीरात में एकल स्टॉप के साथ 7,000 किमी की दूरी तय करने के बाद यहां पहुंचे. विमान को आधिकारिक तौर पर अगस्त में भारतीय वायुसेना में शामिल किया जाएगा.

विमान के आने-जाने की किसी भी फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी को रोकने के लिए वायुसेना के अनुरोध पर पुलिस द्वारा वायु सेना स्टेशन के चारों ओर एक सुरक्षा इंतज़ाम किये गए हैं. इसके अलावा, अंबाला एयरबेस के करीब चार गांवों में धारा 144 भी लगाई गई है. भारत ने 2016 में हस्ताक्षरित एक समझौते के माध्यम से अनुमानित रूप से 58,000 करोड़ रुपये में डसॉल्ट राफेल से 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदे थे.

Rafale in India : क्यों चीनी फाइटर जेट J20 भारत के Rafale के सामने अनुभव में अभी बच्चा है

First published: 29 July 2020, 15:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी