Home » इंडिया » Rafale in India: Rafale fighter jet reaches India, will soon land at Ambala IAF station
 

Rafale In India: राफेल फाइटर जेट पहुंच गए भारत, जल्द करेंगे अंबाला IAF स्टेशन पर लैंड

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 July 2020, 15:15 IST

Rafale In India : फ्रांस से आ रहे पांच राफेल फाइटर जेट्स के पहले बैच ने भारतीय वायु क्षेत्र में प्रवेश कर लिया है और शीघ्र ही ये अंबाला में IAF वायु सेना स्टेशन पर उतरेंगे. अरब सागर में तैनात भारतीय नौसेना के युद्धपोत आईएनएस कोलकाता द्वारा लड़ाकू जेट का स्वागत किया गया.

संयुक्त अरब अमीरात से उड़ान भरने के थोड़ी देर बाद भारतीय राफेल ने पश्चिमी अरब सागर में तैनात भारतीय नौसेना के युद्धपोत INS कोलकाता के साथ संपर्क किया. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के कार्यालय ने बताया कि दो सुखोई 30 एमकेआई इनका साथ दे रहे हैं. वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया अंबाला में बेड़े को रिसीव करेंगे .


भारतीय वायु सेना (IAF) के पायलटों द्वारा उड़ाए जा रहे पांच लड़ाकू विमान, एयर-टू-एयर ईंधन भरने और संयुक्त अरब अमीरात में एकल स्टॉप के साथ 7,000 किमी की दूरी तय करने के बाद यहां पहुंचेंगे. विमान को आधिकारिक तौर पर अगस्त में भारतीय वायुसेना में शामिल किया जाएगा.

विमान के आने-जाने की किसी भी फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी को रोकने के लिए वायुसेना के अनुरोध पर पुलिस द्वारा वायु सेना स्टेशन के चारों ओर एक सुरक्षा इंतज़ाम किये गए हैं. इसके अलावा अंबाला एयरबेस के करीब चार गांवों में धारा 144 भी लगाई गई है. भारत ने 2016 में हस्ताक्षरित एक समझौते के माध्यम से अनुमानित रूप से 58,000 करोड़ रुपये में डसॉल्ट से 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदे थे.

Rafale in India : क्यों चीनी फाइटर जेट J20 भारत के Rafale के सामने अनुभव में अभी बच्चा है

अंबाला एयर बेस भारत का सबसे पुराना एयरबेस है. अंबाला एयर बेस को फिल्टर बेस कहा जाता है और यही से पूरे उत्तर भारत की निगरानी की जाती है. अंबाला एयर बेस से भारतीय वायु सेना ने कई सफल ऑपरेशन चलाएं है, जिसमें कारगिल के दौरान चलाया गया ऑपरेशन सफेद सागर भी शामिल है. रणनीतिक रूस से अंबाला एयरफोर्स काफी महत्वपूर्ण है

Rafale in India: आखिर अंबाला एयरबेस को ही क्यों चुना गया है राफेल की तैनाती के लिए, जानिए कारण

First published: 29 July 2020, 14:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी