Home » इंडिया » Rahul Gandhi appoints Steve Jarding as his election campaigner for 2019 lok sabha election was akhilesh yadav former strategist
 

जिसने अखिलेश को हराया यूपी का चुनाव उसी के सहारे राहुल गांधी जीतना चाहते हैं 2019 लोकसभा चुनाव

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 September 2018, 14:18 IST

Lok Sabha Election 2019: साल 2019 का लोकसभा चुनाव होने में अब कुछ महीने का ही वक्त बचा है. देश की सारी पार्टियों ने इसके लिए तैयारियां शुरू कर दी हैं. चुनावों के लिए एक्सपर्ट की मांग बढ़ गई है. इसी बीच खबर आ रही है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव के लिए हावर्ड युनिवर्सिटी के उसी प्रोफेसर को अपना चुनावी कैंपेनर बनाया है जिन्होंने साल 2017 के यूपी के विधानसभा चुनाव में अखिलेश यादव के चुनावी रणनीतिकार की जिम्मेदारी संभाली थी.

खबर के अनुसार, हावर्ड युनिवर्सिटी के प्रोफेसर स्टीव जॉर्डिंग को राहुल गांधी ने अपने चुनावी रणनीतिकार के रूप में जोड़ा है. स्टीव जॉर्डिंग वही हैं जिन्होंने साल 2017 के यूपी के विधानसभा चुनावों में अखिलेश यादव के लिए चुनावी रणनीतिकार के रूप में काम किया था. लेकिन उस चुनाव में समाजवादी पार्टी को हार का सामना करना पड़ा था. 

साल 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में सपा और कांग्रेस ने मिलकर महागठबंधन किया था लेकिन उस चुनाव में बीजेपी की लहर के सामने सारी पार्टियों को सूपड़ा साफ हो गया था. सपा, बसपा, कांग्रेस, रालोद सारी पार्टियों ने मिलकर 403 सदस्यीय विधानसभा वाली यूपी में 100 सीट भी नहीं ला पाई थीं. ऐसे में कांग्रेस अध्यक्ष द्वारा फिर से स्टीव जार्डिंग की सेवाएं लेना कई लोगों के समझ से परे है.

बता दें कि स्टीव जार्डिंग का राजनैतिक रणनीति बनाने का 4 दशक का अनुभव है. हालांकि उन्होंने अधिकतर अमेरिका की डेमोक्रेटिक पार्टी के रणनीतिकार के रूप में काम किया है. अद्वैत सिंह नामक जार्डिंग के पूर्व छात्र रहे शख्स ने अखिलेश यादव और स्टीव जार्डिंग की मुलाकात कराई थी. तब स्टीव जार्डिंग अखिलेश यादव से काफी प्रभावित हुए थे.

पढ़ें- PM मोदी के सामने शायराना अंदाज में बोले मनमोहन सिंह- अभी इश्क के इम्तेहां और भी हैं

स्टीव जार्डिंग ने अखिलेश यादव के चुनाव प्रचार की रणनीति बनाते वक्त ग्रामीण इलाकों पर काफी फोकस किया था. उन्होंने 2017 के विधानसभा चुनावों के दौरान राज्य की बड़ी जनसंख्या तक पहुंचने का लक्ष्य रखा था, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को अपने साथ जोड़ा जा सके.

First published: 2 September 2018, 14:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी