Home » इंडिया » Rahul Gandhi business partner got defence offset contract under UPA Arun Jaitley on charges against
 

राहुल गांधी के बिजनेस पार्टनर को यूपीए सरकार में मिला डिफेंस ऑफसेट कॉन्ट्रैक्ट: अरुण जेटली

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 May 2019, 17:42 IST

केंद्रीय वित्त मंत्री और बीजेपी नेता अरुण जेटली ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिये कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर आरोप लगाया कि उनके एक पूर्व बिजनेस पार्टनर से जुडी कंपनियों को यूपीए सरकार के दौरान डिफेंस ऑफसेट कॉन्ट्रैक्ट हासिल हुए थे. उन्होंने कहा कि राहुल गांधी इस लाइजनिंग कंपनी का पूर्व डायरेक्टर थे, जिसमे उनकी 65 फीसदी हिस्सेदारी.

हालांकि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को मीडिया में आयी इस रिपोर्ट का खंडन किया था. एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान राहुल गांधी ने कहा "कृपया आप जो भी जांच चाहते हैं, उसकी जांच करें, मैं चाहता हूं कि मैं तैयार हूं, क्योंकि मैं जानता हूं कि मैंने कुछ भी गलत नहीं किया है, लेकिन कृपया राफेल की भी जांच करें."

राहुल गांधी के इस जवाब के बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने एक वेबसाइट में छपी इस खबर को ट्वीट किया. शाह ने आरोप लगाया कि राहुल गांधी की कंपनी बैकॉप्स लिमिटेड में उनके बिजनेस पार्टनर रहे उलरिक मैक्नाइट को यूपीए शासन के दौरान ऑफसेट रक्षा अनुबंध मिले.

क्या है पूरा मामला

न्यूज़ वेबसाइट बिजनेस टुडे के अनुसार कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और उनके यूके के सह-प्रमोटर की फर्म बैकॉप्स लिमिटेड को यूपीए के तहत ऑफसेट अनुबंध मिले. उनके बिजनेस पार्टनर उलरिक मैकनाइट बैकॉप्स यूके के 35% सह-मालिक थे, जिसमें 2003 से 2009 के बीच राहुल गांधी के पास 65% इक्विटी का बहुमत था.

मैकनाइट 2011 में स्कॉर्पीन पनडुब्बियों के खिलाफ फ्रांसीसी रक्षा आपूर्तिकर्ता नेवल समूह से ऑफसेट अनुबंध हासिल करने के लिए चले गए. रिपोर्ट के अनुसार यूपीए शासन के दौरान राहुल गांधी के पूर्व बिजनेस पार्टनर से जुड़ी सहायक कंपनियों को फ्रेंच फर्म नेवल ग्रुप के ऑफसेट पार्टनर के रूप में रक्षा अनुबंध प्राप्त हुआ था.

बैकॉप यूके द्वारा किए गए फाईलिंग के अनुसार, राहुल गांधी और मैकनाइट कंपनी के संस्थापक निदेशक थे. 2004 में कांग्रेस अध्यक्ष द्वारा दायर चुनावी हलफनामे के अनुसार, राहुल गांधी ने अपने तीन खातों में बैंक बैलेंस सहित बैकॉप यूरोप से संबंधित चल-अचल संपत्ति घोषित की.

रिपोर्ट के अनुसार 2002 में राहुल गांधी इसी तरह के नाम वाली कंपनी बैकॉप सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड के साथ जुड़े हैं, जहां उनकी बहन और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने सह-निदेशक के रूप में काम किया. राहुल गांधी ने 2004 के अपने चुनावी हलफनामे में घोषणा की कि इस भारतीय फर्म में उनके पास 83% शेयर हैं और उन्होंने उसी में 2.50 लाख रुपये का पूंजी निवेश किया है. 2009 में राहुल गांधी भारत और यूके दोनों जगह कंपनी से अलग हो गए.

राफेल डील: SC में केंद्र का तर्क- PMO निगरानी को समानांतर वार्ता नहीं कहा जा सकता

First published: 4 May 2019, 17:04 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी