Home » इंडिया » Rahul Gandhi granted bail in RSS defamation case
 

आरएसएस मानहानि केस में राहुल को जमानत, 28 जनवरी को अगली सुनवाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 November 2016, 12:41 IST

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को आरएसएस मानहानि मामले में मुंबई की भिवंडी कोर्ट से निजी मुचलके पर जमानत मिल गई है. इस मामले की अगली सुनवाई 28 जनवरी 2017 को होगी.

राहुल गांधी ने 6 मार्च 2014 को एक चुनावी रैली में कहा था कि आरएसएस के लोगों ने महात्मा गांधी की हत्या की. इस मामले में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के एक स्थानीय कार्यकर्ता ने राहुल गांधी के खिलाफ मानहनि का मामला दर्ज कराया था.

2014 की चुनावी रैली में विवादित बयान

मुंबई के भिवंडी के सोनाले इलाके में 2014 में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए राहुल ने कथित रूप से कहा था, "आरएसएस के व्यक्ति ने गांधी की हत्या की."

उन्होंने महात्मा गांधी की हत्या पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के खिलाफ अपनी टिप्पणी के लिए मानहानि मामले में एक सितंबर को आरोपी के तौर पर मुकदमे का सामना करने का फैसला करते हुए उच्चतम न्यायालय में कहा कि वह अपने बयान के ‘हर शब्द’ पर कायम हैं.

राहुल ने मई 2015 में सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल कर यह केस खारिज करने की मांग की थी. इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने राहुल से कहा था, ''आपने आरएसएस के बारे में इस तरह का बयान क्यों दिया? इस बयान से आपने इस ऑर्गनाइजेशन से जुड़े हर शख्स को एक ही रंग से रंग दिया. आप किसी ऑर्गनाइजेशन पर इस तरह का आरोप नहीं लगा सकते हैं."

सितंबर में सुप्रीम कोर्ट से वापस ली याचिका

सुनवाई के दौरान राहुल के वकीलों ने उनके बयान को सही ठहराने की कोशिश की और दलील दी कि यह ऐतिहासिक तथ्य है. इसके अलावा सरकारी रिकॉर्ड में यह दर्ज है. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि राहुल गांधी खुद को डिफेंड करना चाहते हैं और माफी मांगने के लिए तैयार नहीं हैं, तो बेहतर होगा कि वे ट्रायल का सामना करें.

राहुल गांधी इससे पहले पिछले साल 8 जुलाई को भिवंडी में मजिस्ट्रेट डीपी काले के समक्ष पेश हुए थे. राहुल ने इसी साल 8 सितंबर में मामले को चुनौती देने वाली याचिका सुप्रीम कोर्ट से वापस ले ली थी और कहा था कि वह इस मामले में ट्रायल का सामना करेंगे.

जमानत मिलने के बाद राहुल गांधी ने जनता को संबोधित करते हुए पीएम मोदी पर आरोप लगाते हुए कहा कि वो अमीरों की सरकार चला रहे हैं.

First published: 16 November 2016, 12:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी