Home » इंडिया » Rahul Gandhi helped my son become a pilot says mother of nirbhaya 2012 Delhi gangrape victim
 

जानिए राहुल गांधी ने कैसे निर्भया के भाई को बना दिया पायलट

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 November 2017, 17:03 IST

साल 2012 में हुए निर्भया गैंगरेप केस ने पूरे देश को हिला दिया था. इस गैंगरेप के विरोध में लोग दिल्ली सहित पूरे देश में सड़कों पर निकल आए थे. इसके बाद तत्कालीन मनमोहन सिंह सरकार ने महिलाओं की सुरक्षा के लिए नया कानून बनाया. इस घटना के लगभग पांच साल बाद निर्भया की मां ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का शुक्रिया अदा किया है.

निर्भया की मां आशा देवी ने कहा कि राहुल की वजह से ही मेरा बेटा आज पायलट बन पाया है. उन्होंने बताया कि इस हादसे के बाद उनका पूरा परिवार टूट चुका था, लेकिन निर्भया का भाई अपने लक्ष्य से नहीं भटका. उन्होंने बताया कि ये सब राहुल गांधी की वजह से हुआ. राहुल ने ना सिर्फ उनके बेटे की शिक्षा को स्पॉन्सर किया बल्कि वह लगातार उसे फोन करके मोटिवेट करते थे.

निर्भया की मां ने आगे बताया कि राहुल उससे अपने लक्ष्य का पीछा करने को कहते थे. जब राहुल गांधी को इस बात की जानकारी मिली कि मेरा बेटा सेना में जाना चाहता है तो उन्होंने उसे सलाह दी कि वह स्कूल की पढ़ाई खत्म होने के बाद पायलट की ट्रेनिंग में हिस्सा ले. गौरतलब है कि निर्भया गैंगरेप के समय निर्भया का भाई 12वीं का छात्र था.

2013 में निर्भया के भाई ने रायबरेली की इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान एकेडमी में एडमिशन ले लिया. उसे वहां काफी मुश्किल आई. उसके बावजूद भी वह पीछे नहीं हटा. इस दौरान भी राहुल उससे फोन पर बात करते थे. राहुल ने निर्भया के भाई को  कभी भी क्विट ना करने की बात कही.

निर्भया की मां ने कहा कि उनके बेटे की गुरुग्राम में ट्रेनिंग चल रही है. वह जल्द ही प्लेन उड़ाएगा. राहुल के अलावा उनकी बहन प्रियंका ने भी कई बार उससे फोन पर बात की और उसका हाल चाल जाना. गौरतलब है कि दिसंबर 2012 में हुए निर्भया के गैंगरेप के बाद पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर रेप और हत्या का मामला दर्ज किया था.
इनमें से एक आरोपी की पुलिस की कस्टडी में मौत हो गई थी जबकि चार लोगों को फांसी की सजा सुनाई गई. वहीं, एक आरोपी जो नाबालिग था. उसे सुधार प्रक्रिया के लिए तीन वर्ष तक के लिए सुधार ग्रह में भेज दिया गया और फिलहाल वो किसी अज्ञात जगह में रह रहा है.
First published: 2 November 2017, 17:03 IST
 
अगली कहानी