Home » इंडिया » Rahul Gandhi plane was just 20 seconds away from crash go on kailash mansarovar yatra from today
 

राहुल गांधी की जान इस 20 सेकेंड ने बचाई थी, आज से कैलाश मानसरोवर यात्रा पर

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 August 2018, 10:17 IST

Rahul Gandhi Kailash Mansarovar Yatra: राहुल गांधी आज कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जाएंगे. उनकी कैलाश मानसरोवर यात्रा एक सितंबर से शुरू होगी. वह चीन के रास्ते से मानसरोवर जाएंगे. उनकी यह यात्रा 12 दिनों की होगी. राहुल गांधी की यह यात्रा अपने साथ एक विशेष कारण समेटे हुए है.

दरअसल, 26 जुलाई को राहुल गांधी कर्नाटक विधानसभा चुनाव के दौरान प्रचार के सिलसिले में सुपर लग्जरी 10 सीटर दसौल्ट फाल्कन 2000 विमान से नई दिल्ली से हुबली जा रहे थे. इस दौरान उनके विमान में तकनीकी गड़बड़ी आई थी, जिस कारण विमान को इमरजेंसी लैंडिंग करनी पड़ी थी. अब डीजीसीए की जांच रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है कि राहुल गांधी का विमान क्रैश से महज कुछ सेकेंड दूर था.

पढ़ें- जम्मू-कश्मीर: विशेष राज्य का दर्जा देने वाले आर्टिकल 35A पर SC में सुनवाई आज, घाटी में बंद का ऐलान

रिपोर्ट के अनुसार, तकनीकी खराबी पर पायलट काबू नहीं पाते तो अगले कुछ 20 सेकंड में गंभीर परिणाम सामने आ सकता था. रिपोर्ट में कहा गया है कि राहुल का विमान क्रैश भी हो सकता था. उस दिन राहुल गांधी का चार्टर्ड विमान अचानक एक तरफ झुकने लगा था और उसमें से आवाज आ रही थी. विमान ऑटो पायलट मोड पर चल रहा था.

घटना के कुछ दिनों बाद दिल्ली में आयोजित कांग्रेस की 'जन-आक्रोश रैली' में राहुल गांधी ने बताया था, "मैं दो-तीन दिन पहले कर्नाटक जा रहा था, मैं विमान में सवार था. विमान अचानक आठ हजार फुट नीचे आ गया. मैं अंदर से हिल गया और लगा कि अब गाड़ी गई. तभी मुझे कैलाश मानसरोवर की याद आई. अब मैं आप लोगों से 10 -15 दिन के लिए छुट्टी चाहता हूं ताकि कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जा सकूं." इसीलिए अब राहुल गांधी कैलाश मानसरोवर यात्रा पर जा रहे हैंं.

पढ़ें- राहुल गांधी को कांग्रेस के सीनियर नेताओं की सलाह, 'RSS जहर है चखने की गलती ना करें'

बता दें कि इस घटना के बाद कांग्रेस ने इसे साजिश करार दिया था. राहुल के करीबी कौशल के विद्यार्थी ने कर्नाटक पुलिस को इसकी शिकायत की थी. इसी के बाद जांच के लिए एविएशन रेगुलेटर डीजीसीए ने दो सदस्यीय जांच कमिटी बनाई थी. एक सीनियर डीजीसीए अधिकारी ने बताया कि, "शायद पायलट की गलती के कारण ऐसा हुआ होगा. विमान में कुछ गड़बड़ी आई और वो एक ओर तेजी से गिरने लगा. अचानक एल्टिट्यूड गिरने के कारण विमान आवाज करने लगा."

डीजीसीए ने फ्लाइट डाटा रिकॉर्ड और कॉकपिट सिस्टम की भी जांच की है. विमान में जब गड़बड़ी आई तो क्रू ने इसे संभालने में देरी कर दी. अगर कुछ सेकेंड के भीतर गड़बड़ी दूर न की गई होती तो प्लेन क्रैश हो चुका होता. वहीं कांग्रेस पार्टी जांच रिपोर्ट को सार्वजनिक करने की मांग कर रही है.

First published: 31 August 2018, 10:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी