Home » इंडिया » rahul gandhi says, soft hindutv is not party agenda, we believe in equal justice
 

'मुस्लिमों से दूरी' मुद्दे पर राहुल का जवाब, सबको साथ लेकर चलती है कांग्रेस

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 July 2018, 10:46 IST

2019 लोकसभा चुनाव में सत्ता की लड़ाई जीतने के लिए कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही पार्टियों ने कमर कस ली है. दोनों ही पार्टियां अपनी अपनी रणनीति बनाने में जुटी हुई हैं. चुनावी तैयारियों के चलते कल रात कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मुस्लिम समाज के बुद्धिजीवियों से मुलाकात की.

दिल्ली के अपने आवास पर राहुल गांधी ने ये मीटिंग आयोजित की. लोकसभा चुनावों को लेकर पार्टी हर तरह से तैयारी में लगी है. इसी सिलसिले में राहुल ने मुस्लिम समाज के लोगों से बात की, और ये बैठक लगभग 2 घंटे चली. इस बैठक में सॉफ्ट हिंदुत्व और कांग्रेस के मुस्लिमों से दूरी बनाये जाने के मुद्दे पर बात हुई. कुछ लोगों ने चिंता जाहिर की कि कांग्रेस ने लोकसभा चुनावों के मद्देनजर सॉफ्ट हिंदुत्व का एजेंडा अपनाया है और इसी के चलते वो मुस्लिमों से दूरी बना रही है.

ये भी पढ़े- बोले बिप्लब देब: स्टालिन-लेनिन को भूलकर अपने राजा-महाराजाओं का करें सम्मान

लोगों की इस बात पर राहुल गांधी ने जवाब दिया, ''पार्टी का एकमात्र एजेंडा सबके साथ न्याय और सभी वर्गों को साथ लेकर चलने का है. कांग्रेस का किसी धर्म या जाति के लिए कोई एजेंडा नहीं है, बल्कि उसका एकमात्र एजेंडा सबको साथ लेकर चलने और सभी के साथ न्याय का है. कांग्रेस पहले भी सभी वर्गों को साथ लेकर चलती आई और आगे भी ऐसा करती रहेगी.’’

मुसलामानों से जुड़े मुद्दों पर की बात 

बैठक में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिसर्विटी के पूर्व अध्यक्ष जेड के फैजान, शिक्षाविद् इलियास मलिक, पूर्व ब्यूरोक्रेट एम ए फारुकी, इतिहासहाकर इरफान हबीब, बिजनेसमैन जुनैद रहमान, सच्चर कमिटी के पूर्व सदस्य जफर महमूद और कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद शामिल थे.

सलमान खुर्शीद ने बताया कि बैठक में राहुल ने कई वकीलों, इतिहासकारों और विश्वविद्यालयों से जुड़े बुद्धिजीवियों से मुलाक़ात की और विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गयी. साथ ही खुर्शीद ने कहा कि ऐसी उम्मीद है कि इस तरह की बैठ आगे भी होती रहेंगी.

ये भी पढ़ें- शराबबंदी पर पलटे नीतीश, पहली बार में सिर्फ जुर्माना दूसरी बार में होगी जेल

मीटिंग में शामिल एक व्यक्ति ने कहा,''राहुल गांधी ने हमसे खुलकर बातचीत की और मुस्लिम समाज से जुड़े मुद्दों के बारे में जाना और देश की वर्तमान राजनीतिक और सामाजिक परिस्थिति के बारे में हमारे साथ अपने विचार साझा किए.’’

First published: 12 July 2018, 10:46 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी