Home » इंडिया » Rahul gandhi: win the party candidate without any interruption
 

राहुल गांधी: पार्टी के प्रत्याशियों को जिताएं और गुटबाजी बंद करें

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 September 2016, 16:55 IST
(एजेंसी)

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार को अमेठी के जगदीशपुर में एक जनसभा को संबोधित करते पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को गुटबाजी से बाज आने की सख्त हिदायत दी. राहुल गांधी ने कहा है कि कांग्रेस को सत्ता में लाने के लिए उन्हें जमीन पर उतरकर पार्टी को गांवों से घर तक मजबूत करना होगा.

अपने संसदीय निर्वाचन क्षेत्र अमेठी के तीन दिवसीय दौरे पर आये राहुल ने शुक्रवार की देर रात करीब दो बजे तक संगठन के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की.

अमेठी में कांग्रेस कार्यकर्ताओं की नसीहत

इस बैठक में शामिल हुए कुछ लोगों ने नाम गोपनीय रखने की शर्त पर बताया कि राहुल ने विधानसभा क्षेत्रवार संगठन के लोगों से बात की और हिदायत भरे लहजे में कहा कि गुटबाजी करने वालों को अब बाज आ जाना चाहिए. पार्टी जिसे भी उम्मीदवार बनाए, उसे जिताने के लिए कांग्रेस के सभी लोग पूरी ताकत झोंक दें.

राहुल ने संगठन से जुड़े लोगों से कहा कि हमें अपनी बात घर-घर जाकर रखनी होगी. कांग्रेस को गांवों से घर तक मजबूत करना होगा. जमीन पर उतरकर काम करने की जरूरत है.

बैठक के दौरान राहुल ने अमेठी से किसी ब्राह्मण को भी चुनाव टिकट देने की मांग पर कहा कि समीकरण को देखकर उचित समय पर फैसला लिया जाएगा.

खबरों के मुताबिक राहुल गांधी ने बैठक के दौरान चुनाव की हर रणनीति और मुद्दे पर बात की तथा यह जानने की कोशिश की कि विपक्षी दलों की क्या रणनीति है.

गौरीगंज में राहुल का रास्ता रोका

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने अपने अमेठी दौरे के तीसरे और अंतिम दिन शुक्रवार को कलेक्ट्रेट में जिला सतर्कता एवं निगरानी समिति की बैठक में भाग लिया. इस दौरान बड़ी संख्या में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने उनका काफिला गुजरने के रास्ते गौरीगंज-जामो मार्ग तिराहे पर पहुंचने की कोशिश की.

अपनी नौकरी को स्थायी किये जाने की मांग कर रही आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को पुलिस ने राहुल के काफिले के रास्ते पर जाने से रोक दिया. इस पर उनकी पुलिस से तीखी झड़प हुई.

राहुल गांधी के काफिला गुजरने के दौरान नाराज महिलाओं ने उनके विरोधी में नारे भी लगाए. राहुल गांधी ने शुक्रवार को मुंशीगंज गेस्ट हाउस में किसी से मुलाकात नहीं की, जिससे फरियादियों को वापस लौटना पड़ा.

उसके बाद राहुल गांधी ने जिला सतर्कता एवं निगरानी समिति की बैठक में भाग लिया और वापस दिल्ली के लिए रवाना हो गए.

First published: 2 September 2016, 16:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी