Home » इंडिया » Railway Board Chairman Ashwani Lohani say that the Railways is responsible for the tragic incident
 

अमृतसर हादसे पर रेलवे ने दी सफाई, बताया-ड्राइवर ने ऐसे की थी हादसा टालने की कोशिश

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 October 2018, 12:25 IST

अमृतसर हादसे को लेकर रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा का कहना है कि लोगों को भविष्य में रेल की पटरियों पर ऐसे आयोजनों को नहीं करना चाहिए. उन्होंने कहा हादसे वाली जगह पर मोड़ था इसलिए चालक इसे नहीं देख सका. वहीं रेलवे ने इस पर अपनी सफाई दी है. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्वनी लोहानी ने कहा कि ट्रेन ड्राइवर ने इस हादसे को टालने की पूरी कोशिश की थी. उन्होंने कहा हादसे के वक्त ड्राइवर ने स्पीड कम की थी और अगर वह इमरजेंसी ब्रेक लगाता तो हादसा और भी बड़ा हो सकता था.

 

लोहानी ने कहा कि जहां हादसा हुआ वहां बहुत अंधेरा था और ट्रैक थोड़ा घुमावदार था. जिसकी वजह से ड्राइवर को ट्रैक पर बैठे लोग नज़र नहीं आए. उन्होंने कहा कि गेटमैन की ज़िम्मेदारी सिर्फ गेट की होती है जबकि हादसा इंटरमीडिएट सेक्शन पर हुआ था. यह गेट से तकरीबन 400 मीटर दूर है. लोहानी ने कहा कि हमारी कोई गलती नहीं है क्योंकि ट्रेन की जो तय स्पीड थी वह उसी स्पीड से आ रही थी. उस वक्त ट्रेन की रफ्तार 90 km/h की थी. इस दौरान ड्राइवर ने ब्रेक लगाई और स्पीड को 60-65km/h किया.

उन्होंने कहा कि रेलवे को कार्यक्रम की कोई जानकारी नहीं दी गई थी. जबकि इसके उलट कार्यक्रम की चीफ गेस्ट नवजोत कौर का कहना है कि रेलवे को ट्रेनों के लिए निर्देश जारी करने चाहिए थे, जबकि रेलवे का कहना है कि कार्यक्रम की सूचना उन्हें दी ही नहीं गई थी.

ऐसे हुआ हादसा

रावण दहन के दौरान ट्रेन की चपेट में आने से अब तक 60 लोगों के मौत की खबर है. हादसे में 72 से ज्यादा लोगों के घायल होने की भी खबर है. पीटीआई की खबर के अनुसार अमृतसर के जोडा फाटक के पास यह हादसा उस वक्त हुआ जब लोग रेलवे की पटरी पर खड़े होकर रावण दहन देख रहे थे, उसी वक्त वहां से लोकल ट्रेन गुजरी और कई लोग ट्रेन की चपेट में आ गए.

ख़बरों के अनुसार उस वक्त वहां रावण दहन देखने के लिए लगभग 300 लोग मौजूद थे. अधिकारियों का कहना है कि मौत का आंकड़ा अभी बढ़ भी सकता है. अमृतसर पुलिस आयुक्त एसएस श्रीवास्तव ने एएनआई को बताया, "सटीक आंकड़ा ज्ञात नहीं है लेकिन यह निश्चित रूप से 50 से 60 से बीच लोगों की जान गई है.

First published: 20 October 2018, 12:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी