Home » इंडिया » Railway refuse High Speed Talgo Train Plan
 

सफल ट्रायल रन के बावजूद रेलवे ने खारिज किया स्पेन की टेल्गो ट्रेन को

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 5:47 IST

भारतीय रेलवे ने सफल ट्रायल रन के बाद स्पेन की टेल्गो ट्रेन वाली महत्वाकांक्षी परियोजना को आखिरकार खारिज कर दिया है.

रेलवे के मुताबिक ये ट्रेन ट्रायल रन में सफल रही, लेकिन इसके रखरखाव पर आने वाले खर्च के साथ-साथ इसके परिचालन के लिए स्टेशनों में बदलाव करने पड़ेंगे. इस लिहाज से इसे काफी खर्चीला माना जा रहा है.

रेलवे ने इस गाड़ी के सभी सात कोच वापस स्पेन रवाना करा दिए गए हैं. रेलवे की एक्सपर्ट टीम ने इस ट्रेन की स्पीड तो अधिक मानी है लेकिन भारत में इसके संचालन को सही नहीं माना है.

इस फैसले से पहले रेलवे ने टेल्गो ट्रेन का तीन फेज में ट्रायल लिया था. पहला ट्रायल रन बरेली-मुरादाबाद सेक्शन में हुआ. जबकि दूसरा मथुरा-पलवल सेक्शन में और आखिरी दिल्ली-मुंबई के बीच हुआ.

रेल अधिकारियों की मानें तो 150 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पर टेल्गो ट्रेन चली तो दिल्ली-मुंबई के बीच चार घंटे की बचत हुई थी.

रेलवे के मौजूदा आधारभूत सुविधाओं के हिसाब से इससे अच्छे नतीजे कोई और ट्रेन नहीं दे सकती थी, लेकिन रेलवे के मुताबिक मौजूदा परिचालन में इसका प्रयोग संभव नहीं है.

रेलवे अधिकारियों ने इसके पीछे कई वजहें गिनाई हैं. ट्रेन की फ्लोर हाइट नीचे है जिसकी वजह से प्लेटफार्म पर चढ़ते-उतरते समय यात्रियों को परेशानी हो सकती है. वहीं इसकी चौड़ाई भी भारतीय ट्रेनों के मुकाबले काफी कम है.

इसके साथ ही रेलवे ने इसके छोटे और एल्युमीनियम के डिब्बे को भारतीय परिस्थितियों के लिहाज से सही नहीं माना है.

टेल्गो के इन एल्युमीनियम के डिब्बों में बैठने की क्षमता 32 और स्लीपर की सीट 22 ही है, जबकि भारतीय ट्रेनों में बैठने की क्षमता 75 सीट और स्लीपर सीट 72 होती हैं.

First published: 11 December 2016, 1:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी