Home » इंडिया » railways to sack 13000 employees in modi government, rail minister piyush goyal ordered to mark negative workers
 

13000 कर्मचारियों को नौकरी से निकालने की तैयारी में रेलवे, वजह जानकर चौंक जाएंगे

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2018, 11:47 IST

एक तरफ जहां देश में रोजगार को लेकर संसद से सड़क तक हाहाकार मचा हुआ है, वहीं दूसरी तरफ मोदी सरकार रेलवे से 13000 कर्मचारियों को नौकरी से छुट्टी देने की तैयारी कर रही है. इसके लिए सरकार ने ऐसे तर्क दिए हैं जिसे जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे.

दरअसल मोदी सरकार में रेलमंत्री पीयूष गोयल ने भारतीय रेलवे में काम कर रहे उन कर्मचारियों को चिन्हित करने के लिए कहा है जो अनुचित तरीके से अनुपस्थित चल रहे हैं. रेलमंत्री पीयूष गोयल की तरफ से ऐसे कर्मचारियों को चिन्हित कर उन्हें नौकरी से निकालने की योजना बनाई जा रही है. फिलहाल 13 लाख कर्मचारियों में से ऐसे 13 हजार कर्मचारी चिन्हित हुए हैं.

 

रेलमंत्री की ओर से ऐसे कर्मचारियों के खिलाफ अभियान चलाकर चिह्नित करने के बाद रेलवे में हड़कंप मचा है. रेलवे ने अपने एक बयान में कहा, "लंबे समय से अनुपस्थित चल रहे ऐसे कर्मचारियों के खिलाफ विभागीय नियमों के तहत अनुशासनात्मक कार्रवाई चल रही है."

रेलवे की ओर से कहा गया है कि सभी अधिकारियों और पर्यवेक्षकों को चिन्हित कर्मचारियों को उचित प्रक्रिया के तहत बाहर करने का निर्देश दिया गया है. रेलवे की ओर से कहा गया है कि रेलवे में वैसे ही स्टाफ की भारी कमी है, ऊपर से जो कर्मचारी हैं, उनमें भी तमाम ड्यूटी नहीं करते. रेलमंत्री पीयूष गोयल को ऐसी तमाम शिकायतें मिल रहीं थीं.

रेलमंत्री को मिली शिकायतों में कहा गया कि ज्यादातर कर्मचारी बगैर सक्षम स्तर से अनुमति लिए नौकरी से गैरहाजिर चलते हैं, वहीं कुछ कर्मचारी तो अपने रसूख के दम पर ड्यूटी नहीं करते थे, मगर सेलरी भी ले रहे हैं.

जब पीयूष गोयल ने रेल मंत्री का चार्ज संभाला तो उन्होंने सबसे पहले मानव संसाधऩ को दुरुस्त कर सौ प्रतिशत इसके उपयोग पर जोर दिया. जिसके क्रम में उन्होंने सभी जोन को निर्देश दिया कि वे अभियान चलाकर नकारा कर्मचारियों को चिह्नित कर लिस्ट तैयार करें. फिर उनके खिलाफ चार्जशीट तैयार कर उचित प्रक्रिया का इस्तेमाल कर नौकरी से बाहर करें.

रेलमंत्री को मिली शिकायतों में कहा गया कि ज्यादातर कर्मचारी बगैर सक्षम स्तर से अनुमति लिए नौकरी से गैरहाजिर चलते हैं, वहीं कुछ कर्मचारी तो अपने रसूख के दम पर ड्यूटी नहीं करते थे, मगर सेलरी भी ले रहे हैं.

जब पीयूष गोयल ने रेल मंत्री का चार्ज संभाला तो उन्होंने सबसे पहले मानव संसाधऩ को दुरुस्त कर सौ प्रतिशत इसके उपयोग पर जोर दिया. जिसके क्रम में उन्होंने सभी जोन को निर्देश दिया कि वे अभियान चलाकर नकारा कर्मचारियों को चिह्नित कर लिस्ट तैयार करें. फिर उनके खिलाफ चार्जशीट तैयार कर उचित प्रक्रिया का इस्तेमाल कर नौकरी से बाहर करें.

First published: 10 February 2018, 11:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी