Home » इंडिया » Raipur: Journalists don helmets at BJP event days after attack on colleague
 

यहां पत्रकारों को बीजेपी नेताओं का इंटरव्यू हेलमेट पहनकर क्यों लेना पड़ा

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 February 2019, 15:38 IST

पिछले सप्ताह छत्तीसगढ़ की राजधानी में भाजपा समर्थकों द्वारा एक रिपोर्टर पर कथित रूप से हमला करने के बाद बुधवार को रायपुर में बीजेपी के कार्यक्रम में पत्रकार ने कंधे पर कैमरे, हाथ में माइक और सिर पर हेलमेट के साथ दिखे. पत्रकार भाजपा नेताओं का साक्षात्कार लेते समय सुरक्षा इंतज़ामों के साथ दिखे. पत्रकारों ने कहा कि वह भाजपा सरकार को एक प्रतीकात्मक संदेश भेजना चाहते हैं, साथ ही उन पर फिर से हमला करने की स्थिति में एक व्यावहारिक आवश्यकता को भी पूरा करना चाहते हैं.

NDTV की रिपोर्ट के अनुसार शनिवार को पत्रकार सुमन पांडे, जो डिजिटल समाचार पोर्टल द वॉयस के साथ काम करती हैं, रायपुर में भाजपा के जिला-स्तरीय नेताओं की एक बैठक की रिकॉर्डिंग कर रही थीं, जब पार्टी समर्थकों ने उनकी पिटाई कर दी थी. जिसमे पांडे को सिर में चोटें आईं.

 

पार्टी के रायपुर प्रमुख राजीव अग्रवाल सहित भाजपा के चार पदाधिकारियों को पत्रकार की शिकायत पर गिरफ्तार किया गया है. पांडे ने कहा, "मैं अपने मोबाइल फोन पर बैठक का एक वीडियो रिकॉर्ड कर रहा था, जब अचानक भाजपा नेताओं ने किसी मुद्दे पर आपस में बहस करना शुरू कर दिया. राजीव अग्रवाल और एक अन्य व्यक्ति उत्कर्ष त्रिवेदी ने मुझसे हाथापाई की और वीडियो को हटाने के लिए कहा, जिससे उन्होंने इनकार कर दिया. जिसके बाद उन्होंने मुझे मारना शुरू कर दिया और वीडियो को जबरदस्ती हटा दिया." एक अन्य पत्रकार ने कहा कि
"मुझे मीटिंग रूम के अंदर लगभग 20 मिनट तक बैठाया गया. जब मैं बाहर आया, तो मैंने अन्य पत्रकारों को घटना के बारे में बताया."

बाद में भाजपा कार्यालय में अधिक पत्रकार पहुंचे, पुलिस को सतर्क किया और पांडे की कथित रूप से पिटाई करने वालों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर धरना दिया. बैठक में मौजूद छत्तीसगढ़ बीजेपी के प्रवक्ता सच्चिदानंद उपासने ने कहा कि पार्टी ने पांडे से माफी मांगी है. विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक 2018 में भारत को म्यांमार और अफगानिस्तान जैसे देशों से नीचे 180 में से 138 देशों में स्थान दिया गया था.

सूचकांक में सबसे कम 180 पर उत्तर कोरिया था. पेरिस स्थित रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स ने कहा था कि 2017 के बाद से भारत दो स्थान गिर गया. जब 2002 में सूचकांक शुरू किया गया था, तो सर्वेक्षण में शामिल 139 देशों में से भारत 80 वें स्थान पर था.

First published: 7 February 2019, 15:35 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी