Home » इंडिया » Rajasthan: Community barred muslim councillors for not voting congress
 

कांग्रेस को वोट नहीं देने पर मजहबी पंचायत ने ठोंका जुर्माना

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 February 2016, 14:34 IST

राजस्‍थान के टोंक जिले में मालपुरा नगर निगम के चार कांग्रेसी मुस्लिम पार्षदों पर बीजेपी का समर्थन करने के विरोध में कथित तौर पर मुस्लिम समुदाय की पंचायत ने जुर्माना लगाया है.

इसके साथ ही पंचायत ने इन पार्षदों को कांग्रेस को वोट नहीं करने के लिए इनका सामाजिक बॉयकाट भी कर दिया है.

मामला पिछले साल अगस्‍त का है जब टोंक के मालपुरा में स्‍थानीय निकाय चुनाव संपन्न हुए थे और इन चुनाव में चेयरपर्सन पद पर बीजेपी उम्‍मीदवार की जीत हुई थी. यह बात यहां के कुछ धर्मविशेष लोगों को नागवार गुजरी.

इस मामले में वार्ड नंबर 3 से अकरम खान, वार्ड नंबर से 4 नजमा बानो, वार्ड 16 से अलमाउल हक और वार्ड 19 से जीते मोहम्‍मद शकीर ने जिला अधिकारी को पत्र लिखा है कि हमारे मुस्लिम समुदाय के लोगों ने पंचायत बुलाई और मालपुरा नगर पालिका के चेयरपर्सन पद के चुनाव में कांग्रेस कैंडिडेट को वोट देने का दबाव बनाया.

जब पार्षदों ने इससे इंकार किया तो पंचायत ने उन्‍हें पांच साल के लिए समुदाय से बाहर कर दिया और साथ ही 10 हजार रुपए का जुर्माना भी ठोंक दिया. इसके साथ ही चारों पार्षदों ने जिला प्रशासन से इस बात कि शिकायत भी दर्ज कराई कि कुछ लोग उनके परिवार के खतरा बन गए हैं, जिसकी वजह से उन्‍हें मालपुरा से बाहर रहना पड़ा रहा है.

इस मामले में जिला अधिकारी रेखा गुप्‍ता का कहना है कि उन्‍हें इस बात कि शिकायत मिली है और हम मामले की जांच करा रहे हैं. गुप्ता ने कहा कि , 'मैं अभी टोंक में नहीं हूं. अगर हम इस मामले में कुछ कर सकते हैं तो जरूर करेंगे.'

वहीं दूसरी तरफ मुस्लिम पंचायत की ओर से चारों पार्षदों को एक खत भी भेजा गया है. जिसमें लिखा गया है कि चारों पार्षदों को तीन दिन के भीतर इस्‍तीफा दे देना चाहिए और चुनाव में कांग्रेस का समर्थन नहीं करने पर 10,000 रुपए का जुर्माना भी लगाया जाता है.

First published: 6 February 2016, 14:34 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी