Home » इंडिया » Rajasthan Election 2018: after defeating 23 times a MGNREGA worker fighting for 24th times in election
 

राजस्थान चुनाव: 23 बार हारने पर भी नहीं मानी हार, 24वीं बार मैदान में उतरा ये 70 साल का मनरेगा मजदूर

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 November 2018, 11:56 IST

राजस्थान चुनावों में एक तरफ तो सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी है तो दूसरी तरफ विपक्ष में कांग्रेस सत्ता हासिल करने के लिए चुनावी दांव खेल रही है. इसी बीच राजस्थान चुनाव में एक ऐसा भी उम्मीदवार है जो इस बार के चुनावों में 24वीं बार अपना भाग्य आजमा रहे हैं. राजस्थान के करनपुर विधानसभा से सत्तर साल के तीतर सिंह इस बार 24वीं बार अपनी किस्मत आजमाएं चुनाव में उतरे हैं. ख़ास बात ये है कि तीतर सिंह एक मनरेगा मजदूर हैं और चुनावी अभियान और रैलियां करने के करने उनके पास पैसे नहीं है.

गौरतलब है कि तीतर सिंह 24वीं बार निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं. अगर संपत्ति की बात की जाए तो उनके पास संपत्ति के नाम पर एक रुपये भी नहीं हैं. चुनाव लड़ने के लिए वह लोगों के दान किए हुए रुपयों का इस्तेमाल कर रहे हैं. 24वीं बार चुनाव लड़ने उतरे तीतर सिंह कि इच्छा है कि वह कम से कम एक बार जीत हासिल करें.

गौरतलब है कि 70 साल के तीतर सिंह मनरेगा में मजदूरी करके 142 रुपये रोजाना कमाते हैं. अब तक तीतर सिंह नौ विधानसभा चुनाव और 9 लोकसभा चुनाव लड़ चुके हैं. इसके अलावा उन्होंने पंचायत और नगर निगम स्तर के चुनाव में भी अपना भाग्य आजमाया है.

देश को कैश संकट से बचाने के लिए RBI देगा 8,000 करोड़ रुपये संजीवनी
नाना के समर्थन में राजस्थान आया नाती

वहीं तीतर सिंह के इस जूनून को देखते हुए उनके नाती गगनदीप ने कहा, ''मेरे नाना जी इस बार फिर चुनाव लड़ रहे हैं. इससे पहले वह 23 बार चुनाव लड़ चुके हैं. उनके पास कोई बचत नहीं है. हम क्या कर सकते हैं? उनके अंदर चुनाव जीतने का जुनून है. वह चाहते हैं कि एक बार वह चुनाव जीत जाएं इसलिए बार-बार चुनाव लड़ते हैं.'' गगनदीप ने बताया कि वह हरियाणा के सिरसा में 12वीं कक्षा में पढता है. वह चुनाव में अपने नाना का समर्थन करने के लिए राजस्थान आया है.

 

First published: 20 November 2018, 11:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी