Home » इंडिया » Rajasthan Election 2018: Sealed EVM found on NH27
 

Rajasthan Election 2018: वोटिंग के बाद बड़ी लापरवाही, NH -27 पर गिरी मिली सील बंद EVM

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 December 2018, 8:24 IST

राजस्थान और तेलंगाना विधानसभा चुनाव के लिए कल यानी शुक्रवार को मतदान प्रक्रिया पूरी हो गई. इसी के साथ पूरे देश की पांच विधानसभाओं के लिए मतदान संपन्न हो गया. राजस्थान में भी भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिली. लेकिन चुनाव प्रक्रिया के बाद ईवीएम के साथ हुई बड़ी लापरवाही का एक मामला सामने आ रहा है. राजस्थान को हुए चुनावों में कल 2290 उम्मीदवारों का भविष्य अब ईवीएम में कैद हो चुका है. लेकिन इस तरह ही लापरवाही के बाद सवाल खड़े हो रहे हैं. मामला राजस्थान के बारां जिले के किशनगंज इलाके का है जहां पर राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक सीलबंद ईवीएम गिरा मिला.

गौरतलब है कि चुनावों के बाद ईवीएम को सील करके मतगड़ना के रखा जाता है लेकिन शाहाबाद थाना क्षेत्र के मुगावली रोड पर एनएच 27 पर एक सीलबंद ईवीएम लावारिस हालत में गिरा मिला. हालांकि ईवीएम के साथ किसी तरह की छेड़खानी की अभी कोई खबर नहीं मिली है.

लावारिस मिली ईवीएम की सूचना के बाद थाना अधिकारी नारायण राम मौके ने पर पहुंचकर ईवीएम को कब्जे में ले लिया. वहीं इस घटना में लापरवाही के कारण पाली विधानसभा क्षेत्र के रिटर्निंग ऑफिसर महावीर का ट्रांसफर कर दिया गया.

ये भी पढ़ें- मोदी के मंत्री को भी किया EVM ने परेशान, वोट डालने के लिए साढ़े 3 घंटे करना पड़ा इंतजार

वहीं मतदान शुरू होने के कुछ ही घंटों के भीतर कई पोलिंग बूथ पर EVM के खराब होने की खबर आ रही है. खराब ईवीएम के कारण केवल आम जनता ही नहीं मोदी के मंत्री को भी परेशान होना पड़ा. मोदी सरकार में मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता अर्जुन राम मेघवाल को ईवीएम में आई गड़बड़ी के कारण वोट डालने के लिए करीब साढ़े घंटे तक इंतज़ार करना पड़ा.

मेघवाल करीब 8 बजे ही अपना मतदादिकार प्रयोग करने के लिए वोटिंग बूथ पहुंचे थे लेकिन करीब साढ़े तीन घंटे लाइन में खड़े होकर इन्तजार करने के बाद वो 11:30 बजे अपना वोट डाल पाए.

First published: 8 December 2018, 8:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी