Home » इंडिया » rajasthan: five infants dead in one night at ajmer hospital
 

अजमेर: सरकारी अस्पताल में 5 शिशुओं की मौत, लापरवाही का आरोप

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 May 2016, 17:29 IST

राजस्थान के अजमेर जिले के राजकीय चिकित्सालय के नवजात शिशु विभाग में भर्ती पांच नवजातों की शनिवार रात से रविवार सुबह तक के बीच में मौत हो गई. मरने वाले सभी नवजात यहां विभिन्न अस्पतालों से रेफर हो कर आए थे.

इस मामले में अजमेर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. कृष्णकांत सोनी ने बताया कि प्रारंभिक जांच में पाया गया कि पांचों नवजात अलग-अलग बीमारियों से पीड़ित थे और उन्हें अलग-अलग स्थानों से जवाहरलाल नेहरु अस्पताल (जेएलएन) में भर्ती कराया गया था.

डॉ. सोनी ने बताया कि एक नवजात भीलवाड़ा से, एक मेडता से, एक अजमेर के पीसांगन से, एक नसीराबाद से और एक ब्यावर से जेएलएन अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

उन्होंने बताया कि भर्ती पांचों नवजातों में से एक नवजात रक्त संक्रमण, एक का समय से पूर्व जन्म, और दो नवजात सांस लेने में तकलीफ के कारण अस्पताल में भर्ती हुए थे.

मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि विभाग ने अस्पताल में भर्ती नवजातों की मौत को गंभीर घटना मानते हुए कारणों का पता लगाने के लिये तीन सदस्यीय चिकित्सकों का एक दल गठित किया है.

यह दल रविवार शाम तक अपनी रिपोर्ट जिला कलेक्टर को पेश करेगा.

वहीं, जेएलएन अस्पताल के उपाधीक्षक डॉ. विक्रांत ने इस घटना के बारे में बताया कि सभी नवजातों के शव उनके परिजनों को उनके आग्रह पर बिना पोस्टमार्टम के सौंप दिये गये हैं.

दूसरी ओर मृत नवजातों के परिजनों ने अस्पताल प्रशासन पर आरोप लगाया है कि अस्पताल में रात में वरिष्ठ डॉक्टर नहीं रहते हैं और उन्हें कॉल कर बुलाया जाता है, लेकिन बीती रात यहां कोई भी वरिष्ठ डॉक्टर नहीं आया. भर्ती सारे बच्चे रेजिडेंट डॉक्टरों के भरोसे ही थे.

परिजनों ने यह भी आरोप लगाया कि रात मे यहां काफी अव्यवस्था की स्थिति थी और इसी वजह से इन बच्चों की मौत हुई है.

परिजनों के आरोप का जवाब देते हुए अस्पताल प्रशासन ने दावा किया है कि मृत बच्चे विभिन्न अस्पतालों से रेफर होकर आए थे और काफी कमजोर हालत में थे.

गर्मी के कारण बच्चों के शरीर में पानी की कमी थी और इसी कारण उनकी मौत हो गई.

First published: 15 May 2016, 17:29 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी