Home » इंडिया » Rajasthan: Section 144 of the CrPC has been imposed in 11 district due to Covid-19
 

कोरोना वायरस के कारण राजस्थान के 11 जिलों में लगाया गया कर्फ्यू, 31 अक्टूबर तक जारी रहेगा प्रतिबंध

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 September 2020, 9:12 IST

Coronavirus: भारत समेत पूरी दुनिया में कोरोना वायरस का प्रकोप कम होने का नाम नहीं ले रहा है. इस बीच राजस्थान के 11 जिलों में धारा 144 लगा दी गई है. कोरोना संक्रमण की गंभीर स्थिति को देखते हुए राज्य सरकार ने राजधानी जयपुर, जोधपुर, अलवर, भीलवाड़ा, कोटा, अजमेर, बीकानेर, सीकर, उदयपुर, पाली और नागौर जिलों में धारा 144 लगाा दिया है.

अब इन शहरों में सार्वजनिक स्थलों पर पांच से अधिक व्यक्तियों के एक साथ इकट्ठा होने पर प्रतिबंध है. इसके अलावा सार्वजनिक स्थलों पर मास्क पहनना जरूरी कर दिया गया है. सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करना भी इन जगहों पर अनिवार्य होगा. इस संबंध में संबंधित जिले के कलेक्टर आदेश जारी करेंगे.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय बैठक में शनिवार रात यह निर्णय लिया गया. राज्य में कोविड-19 महामारी की बेकाबू होती स्थिति और उससे बचाव के उपायों को लेकर मुख्यमंत्री गहलोत ने शनिवार की रात अधिकारियों के साथ बैठक की. बैठक में तय किया गया कि पूरे प्रदेश में किसी भी सामाजिक-धार्मिक आयोजन पर रोक रहेगी.

कोरोना वायरस: दिल्ली में कम्युनिटी स्प्रेड पर स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कह दी बड़ी बात

सामाजिक-धार्मिक आयोजन पर रोक 31 अक्टूबर तक यथावत जारी रहेगा. सरकारी बयान के अनुसार. अंतिम संस्कार में 20 लोग तथा शादी-विवाह के आयोजन में सिर्फ 50 लोगों के शामिल होने की छूट पहले की तरह होगी. हालांकि इसके लिए भी स्थानीय उपखण्ड अधिकारी को पहले से सूचना देनी होगी.

मुख्यमंत्री ने कोरोना संक्रमण से बचने के लिए सभी सार्वजनिक जगहों पर फेस मास्क पहनने और सामाजिक दूरी बनाए रखने समेत सभी स्वास्थ्य नियमों की कड़ाई से पालना करवाने का निर्देश जारी किया है. सीएम ने कहा कि लोगों को बाजारों, सार्वजनिक परिवहन, कार्यालयों, पर्यटन स्थलों तथा सभी जगह पर 'नो मास्क, नो एन्ट्री' के संकल्प का पालन करना चाहिए.

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री भी आ गए कोरोना वायरस की चपेट में, नहीं थे कोविड-19 के कोई लक्षण

भारत ने नेपाल को सौंपी को आधुनिक रेलगाड़ियां, कोरोना के बीच देखने के लिए जमा हुए हजारों लोग

First published: 20 September 2020, 8:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी