Home » इंडिया » Rajasthan: Speaker of the Assembly reached the Supreme Court against the High Court's decision in the notice case
 

राजस्थान : नोटिस मामले में स्पीकर सीपी जोशी ने हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 July 2020, 12:12 IST

Rajasthan political crisis : राजस्थान में सियासी घमासान बढ़ता जा रहा हैं. विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि वह हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जायेंगे. उनका कहना है कि स्पीकर को बागी विधायकों को कारण बताओ नोटिस देने का पूरा अधिकार है. एक रिपोर्ट के अनुसार विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने कहा ''संविधान और सुप्रीम कोर्ट ने जिम्मेदारियां तय की हैं. स्पीकर होने के नाते मैंने कारण बताओ नोटिस दिया है. अगर अथॉरिटी कारण बताओ नोटिस जारी नहीं करेगी तो उसका काम क्या होगा.'' ANI के मुताबिक जोशी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर दी है. 

जोशी ने कहा “स्पीकर के पास कारण बताओ नोटिस भेजने का पूरा अधिकार है. मैंने अपने वकील से सुप्रीम कोर्ट में एसएलपी दायर करने के लिए कहा है''. जोशी ने कहा कि वह उच्च न्यायालय के फैसले से निराश हैं. सचिन पायलट और उनके करीबी 18 विधायकों को कांग्रेस की एक शिकायत पर पिछले सप्ताह अयोग्यता नोटिस जारी किए गए थे. 19 विधायकों को जारी अयोग्यता नोटिस मामले में हाईकोर्ट ने सुनवाई के बाद 24 जुलाई तक फैसला सुरक्षित रखा था. अदालत ने कहा कि तब तक स्पीकर इन विधायकों के खिलाफ कार्यवाही नहीं कर सकते हैं.


इससे पहले कांग्रेस पार्टी की शिकायत में कहा गया था कि पार्टी ने विधायक दल की बैठक के लिए व्हिप जारी किया था, लेकिन विधायकों ने इसका पालन नहीं किया. पायलट खेमे का कहना है कि व्हिप विधानसभा सत्र के दौरान लागू होता है पार्टी बैठक में नहीं. जोशी ने जोर देकर कहा कि सुप्रीम कोर्ट के कई फैसले हैं, जिनमें कहा गया है विधानसभा स्पीकर द्वारा अपना फैसला सुनाए जाने से पहले न्यायपालिका द्वारा हस्तक्षेप नहीं किया जा सकता है. उन्होंने कहा “मैं टकराव नहीं चाहता. मैं न्यायाधीशों का सम्मान करता हूं''.

राजस्थान: CM अशोक गहलोत तक पहुंची CBI की आंच, OSD को पूछताछ के लिए बुलाया 

First published: 22 July 2020, 12:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी