Home » इंडिया » Rajasthan: Teacher Now Hold Those, Who Defecating In Open
 

राजस्थान: खुले में शौच करने वालों को धरेंगे शिक्षक

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 June 2016, 20:08 IST

प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत मिशन को गंभीरता से लेते हुए राजस्थान के एक डीएम ने शिक्षकों को खुले में शौच करने वालों पर नजर रखने का आदेश दिया है.

डीएम के आदेश में कहा गया है कि शिक्षक न केवल सुबह पांच बजे उठकर खुले में शौच करने वालों को पकड़ेंगे बल्कि ऐसे लोगों की फोटो खींचकर व्हाट्सअप पर संबधित अधिकारी को इसकी जानकारी भी देंगे.

महिला शिक्षकों को भी मानना होगा आदेश

राजस्थान के झालवाड जिले के कलेक्टर डॉ. जितेंद्र कुमार सोनी ने इस प्रकार के आदेश दिए हैं. चौंकाने वाली बात ये है कि इस आदेश का पालन महिला शिक्षकों को भी करना होगा. गौरतलब है कि झालवाड राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का गृहनगर और विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र है.

स्वच्छ भारत मिशन के तहत इस आदेश में शिक्षकों की खुले में शौच जाने वाले लोगों को रोकने के साथ ही शौचालय बनाने तथा उपयोग करने के लिए प्रेरित करने की ड्यूटी लगाई है. कलेक्टर के 3 जून को जारी आदेश में बताया कि 30 जून तक जिले की सभी ग्राम पंचायतों को खुले में शौच से मुक्त बनाना है. 

इससे पहले मध्य प्रदेश सरकार ने कुंभ के दौरान शिक्षकों को जूते चप्पल कतार में रखवाने की ड्यूटी पर लगाया था जिसका वहां के शिक्षक संगठनों ने काफी विरोध किया था.

इस आदेश के तहत सम्बन्धित ग्राम पंचायतों के संस्था प्रधान मॉर्निंग फॉलोअप के लिए संबंधित गांव में समस्त कर्मचारियों एवं शिक्षकों को साथ लेकर अनिवार्य रूप से सुबह 5 बजे ऐसे स्थानों पर जाना होगा जहां लोग खुले में शौच करने जाते हैं.

शिक्षा की गुणवत्ता पर होगा असर

इस आदेश पर बोलते हुए झालवाड जिला शिक्षक संघ के अध्यक्ष अजय जैन ने कहा, "क्या शिक्षकों के पास पढ़ाना छोड़कर यही एक काम बचा है". उन्होंने कहा, "इस तरह के काम शिक्षा की गुणवत्ता और रिजल्ट पर असर डालते हैं."

दूसरी तरफ झालवाड जिला शिक्षक संघ के महासचिव ज्योति शर्मा ने कहा, "नौकरी के लिए विशेष रूप से महिला शिक्षकों के लिए ये काम अनुचित है."

उन्होंने आगे कहा कि हम सभी सरकारी नौकर हैं इसलिए सरकार के आदेश का पालन करना जरुरी है.

वहीं शिक्षा अधिकारियों का कहना है अभी स्कूलों में छूट्टियां चल रही हैं इसलिए यह आदेश शिक्षा विभाग में 21 जून से लागू होगा. शेष विभाग इस आदेश का अभी से पालन करेंगे.

First published: 8 June 2016, 20:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी