Home » इंडिया » Rajasthan: Will Pilot walk the path of Scindia, know political arithmetic of data in assembley
 

राजस्थान : क्या सिंधिया की राह चलेंगे पायलट, गहलोत के पास कितने MLA, BJP को कितनी जरूरत

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 July 2020, 9:19 IST

राजस्थान में अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच आंतरिक झगड़े के बीच कांग्रेस महासचिव अविनाश पांडे ने दावा किया है कि सरकार के साथ 109 विधायक हैं और उन्होंने मुख्यमंत्री के समर्थन में पत्र पर हस्ताक्षर किए हैं. रविवार देर रात मीडिया ब्रीफिंग में पांडे ने कहा “अब तक 109 विधायकों ने समर्थन पत्र पर हस्ताक्षर किए हैं, अशोक गहलोत जी के नेतृत्व वाली सरकार और सोनिया और राहुल गांधी जी के नेतृत्व में पूर्ण समर्थन और विश्वास व्यक्त किया है. इसके अलावा कुछ अन्य विधायकों ने भी मुख्यमंत्री के साथ फोन पर बात की है और वे भी समर्थन पत्र को अपनी स्वीकृति देंगे.” इससे पहले राजस्थान के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने दावा किया था कि गहलोत सरकार अल्पमत में हैं और उन्हें 30 विधायकों का समर्थन है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार सचिन पायलट और ज्योतिरादित्य सिंधिया की मुलाकात के बाद चर्चा थी कि उनके बीजेपी में शामिल होने का खाका तैयार हो चुका है.

आज विधायक दल की बैठक

कांग्रेस ने आज सुबह 10 :30 बजे विधायक दल की बैठक बुलाई है, जिसमें पार्टी ने राज्य में अपने सभी विधायकों के लिए व्हिप जारी किया गया है कि बैठक में उपस्थित होना अनिवार्य है. उन्होंने कहा "कोई भी विधायक जो व्यक्तिगत या विशेष कारणों का उल्लेख किए बिना बैठक में शामिल नहीं होता है, उनके खिलाफ सख्त अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी."


राजस्थान कांग्रेस के प्रमुख और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने बैठक में भाग लेने से इनकार कर दिया है. गहलोत और पायलट के बीच चल रहे झगड़े के बीच चर्चा है कि मध्यप्रदेश वाली स्थिति कहीं राजस्थान में भी न दोहरायी जाए. हालांकि एक रिपोर्ट के अनुसार यह पूछे जाने पर कि क्या वह भाजपा में शामिल हो रहे हैं, सचिन पायलट ने कहा "मैं भाजपा में शामिल नहीं हो रहा हूं."

क्यों हैं पायलट नाराज

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पायलट के नाराज होने की वजह विधायकों की खरीद-फरोख्त के मामले में स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) का नोटिस बताया माना जा रहा है. एसओजी ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत समेत अन्य मंत्रियों को भी नोटिस भेजा है. सीएम गहलोत का कहना है कि यह सामान्य प्रक्रिया है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पायलट ने गहलोत की शिकायत दिल्ली आलाकामन को की थी लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई जिस कारण वह नाराज हैं.

क्या है विधानसभा की स्थिति

राजनीतिक संकट बढ़ने के साथ कांग्रेस पार्टी ने अजय माकन और रणदीप सुरजेवाला को रविवार को जयपुर रवाना किया था. अविनाश पांडे ने राज्य की स्थिति पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को एक रिपोर्ट सौंपी थी. राजस्थान 200 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के 107 विधायक हैं और उसे 13 निर्दलीय और एक राष्ट्रीय लोकदल के विधायक का समर्थन प्राप्त है. कुल मिलाकर कांग्रेस 121 विधयकों का समर्थन है. राज्य में भाजपा के पास 72 एमएलए हैं, इसकी सहयोगी आरएलपी में तीन हैं और एक निर्दलीय विधायक शामिल है. भाजपा को राज्य में बहुमत के लिए 29 विधायकों की जरूरत है.

Rajasthan Political Crisis: अल्पमत में आई गलहोत सरकार, 30 विधायकों ने सचिन पायलट को दिया समर्थन- रिपोर्ट

First published: 13 July 2020, 9:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी