Home » इंडिया » Rajiv Bajaj said person told me 'Why are you taking a risk by interviewing Rahul Gandhi
 

इंटरव्यू से पहले व्यक्ति ने मुझसे कहा 'राहुल गांधी से बात करके क्यों जोखिम ले रहे हो'- राजीव बजाज

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 June 2020, 13:07 IST

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अपने इंटरव्यू की अगली कड़ी में बजाज ऑटो के प्रबंध निदेशक राजीव बजाज के साथ बातचीत की. इस दौरान राजीव बजाज ने कहा कि भारत को जिस तरह से बंद किया गया है यह बहुत ही कठोर लॉकडाउन है. उन्होंने कहा ''मैंने कहीं से भी इस तरह के लॉकडाउन के बारे में नहीं सुना. दुनिया भर से मेरे सभी दोस्त और परिवार हमेशा बाहर निकलने के लिए स्वतंत्र रहे हैं.

इस दौरान राहुल गांधी ने कहा ''यह काफी अजीब है. मुझे नहीं लगता है कि किसी ने कल्पना की थी कि दुनिया को इस तरह से बंद कर दिया जाएगा. मुझे नहीं लगता कि विश्व युद्ध के दौरान भी दुनिया बंद थी. तब भी चीजें खुली थीं. यह एक अनोखी और विनाशकारी घटना है. राजीव बजाज ने कहा कि भारत ने जापान और दक्षिण कोरिया के बजाय यूरोप और अमेरिका को देखा और यह भारत जैसे एशियाई देश के लिए एक गलत बेंचमार्क था.


उन्होंने विस्तार से बताया कि लॉकडाउन के विभिन्न रूपों में से जिन्हें हम चुन सकते थे, हमने एक कठिन लॉकडाउन चुना और जिसकी वजह से वायरस की स्थिति अभी भी कायम है. इंटरव्यू के दौरान राहुल गांधी ने राजीव बजाज से कहा कि ''मेरे एक दोस्त ने पूछा कि आपका अगला इंटरव्यू किसके साथ है, ? तो मैंने कहा, राजीव बजाज के साथ. उस आदमी ने जवाब दिया, बंदे में दम है. क्योंकि उसमे आपसे बात करने की हिम्मत है'.

इस सवाल के जवाब में बजाज ने राहुल गांधी से कहा ''आपकी तरह मैंने भी अपना अनुभव साझा किया. मैंने एक व्यक्ति से कहा कल में 12 बजे राहुल गांधी से बात करने जा रहा हूं... और ये बातें करने जा रहा हूं''. बजाज ने कहा ''उसकी पहली प्रतिक्रिया थी- यह बात मत करो. मैंने कहा- लेकिन क्यों नहीं. उसका जवाब था- मत करना इससे आपको परेशानी हो सकती है''. बजाज ने कहा ''मैंने उस व्यक्ति से कहा- लेकिन मैंने ये बातें NDTV, इकनॉमिक टाइम्स और आजतक पर कही हैं.... इतने सारे चैनलों पर, मीडिया में कहा, तो अब गलती है, तो वो हो चुकी है''.

 

बजाज ने कहा ''व्यक्ति ने जवाब दिया -नहीं मीडिया में बोलना एक बात है लेकिन राहुल गांधी से बात करना दूसरी बात है. राजीव बजाज ने कहा ''मैंने उसे विस्तार से बताया. मैंने कहा हम व्यापार, अर्थशास्त्र, लॉकडाउन के बारे में बात करने जा रहे हैं, क्या करें, कैसे आगे बढ़ें...'' मैंने व्यक्ति से कहा ये बातें भी नही हो सकती क्या? . फिर भी वह कहता रहा -आप क्यों आप जोखिम लेते हो''.

केरल : हथिनी के साथ की गई क्रूरता पर वन अधिकारी की पोस्ट पढ़कर रो पड़ेंगे आप

First published: 4 June 2020, 13:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी