Home » इंडिया » Rajnath Singh said anti-India acts won't be tolerated
 

राजनाथ के बयान के बाद जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया गिरफ्तार

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 February 2016, 18:45 IST

दिल्ली स्थित जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी कैंपस में कथित भारत विरोधी नारेबाजी के बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए शुक्रवार को जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार को गिरफ्तार कर लिया है. यह गिरफ्तारी पुलिस द्वारा दर्ज किए गए राष्ट्रद्रोह के मामले में की गई है. पुलिस को इस मामले में 7-8 अन्य आरोपियों की तलाश है.

ताजा खबर यह है कि जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुुमार को हिरासत में लेने के बाद पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया. कोर्ट ने कन्‌हैया को तीन दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया है. 

इससे पहले शुक्रवार की सुबह गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सख्त लहजे में बयान दिया था कि जेएनयू में देशविरोधी गतिविधियां कतई बर्दाश्त नहीं की जाएंगी. साथ ही उन्होंने इसमें लिप्त लोगों के खिलाफ 'कड़ी से कड़ी' कार्रवाई करने की घोषणा की थी.

पढ़ेंः राष्ट्र और द्रोह के द्वंद्व में फंसा जेएनयू का वामपंथ

सिंह ने कुछ संवाददाताओं से बातचीत में कहा, "यदि कोई भारत विरोधी नारे लगाता है, देश की एकता और अखंडता पर सवाल उठाने की कोशिश करता है तो उन्हें बख्शा नहीं जाएगा. उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी." राजनाथ ने यह भी कहा कि उन्होंने दिल्ली पुलिस को निर्देश दे रखा है कि वह हाल ही में जेएनयू परिसर में भारत-विरोधी गतिविधियों में कथित तौर पर लिप्त रहे लोगों के खिलाफ कड़ा कदम उठाए. 

गौरतलब है कि मंगलवार को जेएनयू परिसर में छात्रों के एक समूह ने समारोह आयोजित कर संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरु को वर्ष 2013 में फांसी दिए जाने के मुद्दे पर सरकार और देश के खिलाफ कथित तौर पर नारेबाजी की थी.

भाजपा सांसद महेश गिरी और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की शिकायतों के बाद दिल्ली पुलिस ने बृहस्पतिवार को इस समारोह के सिलसिले में अज्ञात लोगों के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज किया था.

वहीं, एआईएसएफ से जुड़ी छात्र नेता राहिला परवीन ने कहा कि इस गिरफ्तारी की अपने संगठन की ओर से की कड़ेे शब्दों में निंदा करती हूं. जिन भी राष्ट्रविरोधी गतिविधियों में कन्हैया को शामिल होना बताया जा रहा है, उसमें कहीं पर भी कन्हैया या संस्था की कोई भूमिका नहीं है. अगर किसी टीवी चैनल पर आरएसएस के खिलाफ बोलना राष्ट्रदोह है तो हमने यह किया है. 

First published: 12 February 2016, 18:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी