Home » इंडिया » Rajnath Singh: The culprits of Kokrajhar attack will be brought to justice
 

राजनाथ सिंह: कोकराझार हमले के गुनहगारों को नहीं बख्शेंगे

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 August 2016, 16:03 IST
(लोकसभा टीवी)

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने पांच अगस्त को असम के कोकराझार में हुए उग्रवादी हमले पर लोकसभा में बयान दिया. गृह मंत्री ने हमले की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि हमले के सभी पहलुओं की जांच पड़ताल की जा रही है.

साथ ही राजनाथ ने कहा कि सुरक्षा बलों को निर्देश दिये गए हैं कि वे इस घटना में शामिल उग्रवादियों को जल्द ढूंढ़ निकालें, ताकि उन्हें कड़ी सजा दी जा सके. राजनाथ ने कहा कि गुनहगारों को किसी सूरत में नहीं बख्शा जाएगा. 

कोकराझार उग्रवादी हमले पर लोकसभा में अपने बयान में गृह मंत्री ने बताया कि राज्य सरकार ने इस हमले के खिलाफ तेजी से कार्रवाई की. हमले में घायल व्यक्तियों को सबसे अच्छी चिकित्सा सुविधा प्रदान की जा रही है. 

5-5 लाख का मुआवजा

राजनाथ ने लोकसभा में कहा, "हमले में मृत लोगों के निकट संबंधियों को पांच-पांच लाख रुपये, गंभीर रूप से घायल लोगों को एक-एक लाख रुपये और सामान्य रूप से घायलों को 20-20 हजार रुपये की आर्थिक सहायता दी गई है."

गृह मंत्री ने साथ ही कहा, "मैंने असम सरकार और सुरक्षा बलों को निर्देश दिया है कि वे इस उग्रवादी घटना में शामिल उग्रवादियों को जल्द से जल्द ढूंढ निकालने और उनको इस घोर अपराध के लिए कड़ी से कड़ी सजा प्रदान करने में मदद करें." 

सेना की वर्दी में थे हमलावर

गृह मंत्री ने कहा कि इस हमले के बारे में एक आपराधिक मामला कोकराझार पुलिस थाने में दर्ज किया गया है और हमले के सभी पहलुओं की जांच पड़ताल की जा रही है.

पढ़ें: असम: कोकराझार में आतंकी हमला, 14 की मौत, एक हमलावर ढेर

संसद में राजनाथ सिंह ने बताया, "पांच अगस्त 2016 को उग्रवादियों ने कोकराझार के बालाजान तिनाली के साप्ताहिक बाजार पर हमला किया. सुबह साढ़े ग्यारह बजे उग्रवादी सेना की वर्दी में आए और साप्ताहिक बाजार में एकत्र लोगों पर हमला बोल दिया."

राजनाथ सिंह ने साथ ही बताया, "उग्रवादियों ने पहले कुछ घरों एवं दुकानों में आग लगा दी, जिससे इलाके में आग फैल गई और इसके बाद अंधाधुंध फायरिंग करते हुए लोगों को मारा गया."

हमले में 14 लोगों की मौत

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने लोकसभा में बताया कि हमले में 14 लोग मारे गए, जिसमें 8 बोडो, एक महिला और एक बच्चा शामिल है. 19 लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं, जिनका इलाज जिले और प्रांत की राजधानी के अस्पतालों में चल रहा है.

राजनाथ सिंह ने कहा कि स्थानीय पुलिस और सुरक्षा बलों ने बिना समय गंवाये हमलावरों के खिलाफ कार्रवाई की और एक उग्रवादी को मार गिराया, जिसकी अभी पहचान नहीं हो पाई है. 

उग्रवादी संगठन की पहचान बाकी

गृह मंत्री ने बताया, "मृत उग्रवादी के पास से एक एके-56 राइफल, दो मैगजीन, एक हथगोला के साथ ही इलेक्ट्रॉनिक साजो-सामान मिले हैं. हमले में शामिल उग्रवादियों की संख्या और उग्रवादी संगठन की अभी पहचान होनी बाकी है."

राजनाथ ने कहा, "मैं इस उग्रवादी हमले की कड़ी शब्दों में निंदा करता हूं, जिसमें निर्दोष लोग मारे गए हैं, साथ ही मृत व्यक्तियों के परिवारजनों के प्रति इस दुख की घड़ी में अपनी संवेदना प्रकट करता हूं. ईश्वर से प्रार्थना है कि इस संकट की घड़ी में वह इनका साथ दें और इस दुख को सहने की शक्ति दें."

First published: 8 August 2016, 16:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी