Home » इंडिया » rajya sabha deputy chairman elections 2018: harivansh narayan singh fight with hariprasad
 

राज्यसभा उपसभापति चुनाव: हरिवंश या हरिप्रसाद किसकी झोली में कितने वोट? कौन जीतेगा ये मुकाबला?

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 August 2018, 8:31 IST

राज्यसभा में उपसभापति के लिए चुनावी माहौल पूरे जोर पर है. सरकार और विपक्ष की तरफ से उनके उम्मीदवार इस चुनाव में अपनी पूरी ताक़त के साथ उतरे हैं. उपसभापति के लिए ये चुनाव आज राज्यसभा में होंगे. इस चुनाव में बीजेपी के उम्मीदवार के तौर पर जनता दल यूनाइटेड के सांसद हरिवंश है, तो वहीं विपक्ष की तरफ से बीके हरिप्रसाद साझा उम्मीदवार के तौर पर चुनावों में उतरे हैं.

इस हिसाब से मुकाबला हरिवंश और हरिप्रसाद के बीच है. दोनों ही पार्टियां अपने उम्मीदवार की जीत को लेकर आश्वस्त हैं. इन दोनों में से किसकी जीत होगी इसका फैसला आज वोटिंग में भाग लेने वाली पार्टियां करेंगी.

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस: मंत्री मंजू वर्मा के इस्तीफे के बाद क्या CM नीतीश भी देंगे इस्तीफा ?

गौरतलब है कि एनडीए की तरफ से मैदान में उतरे हरिवंश दो दिन पहले कुछ कमजोर पड़ते दिखाई दिए थे. खबरें ऐसी भी थी कि हरिवंश को लेकर एनडीए में ही एकमत नहीं है. लेकिन जब एनडीए के दलों के अपने मत रखे तो हरिवंश के नाम पर सब हामी भरने लगे. इस हिसाब से तो हरिवंश का पलड़ा भारी होता नजर आ रहा है.

अकाली दल और शिवसेना भी हरिवंश की तरफ हैं. इस हिसाब से देखा जाए तो अभी तक समीकरण ये कहते हैं कि एनडीए का पक्ष यूपीए से काफी मजबूत है.

क्या है वोटों का गणित
राज्यसभा में सदस्यों की मौजूदा संख्या 244 है जिसमें से जीतने के लिए 123 वोटों की जरूरत पड़ेगी. अगर भाजप के सूत्रों की मानें तो 126 सदस्य हरिवंश के समर्थन में हैं. वहीं कांग्रेस ने दावा किया है 111 सदस्यों का समर्थन उन्हें मिलेगा.

सूत्रों के अनुमान के मुताबिक हरिवंश को राजद के 91 सदस्यों के अलावा तीन नामित सदस्य और निर्दलीय अमर सिंह का वोट मिलना तय है.

द्रविड़ आंदोलन जिसने करुणानिधि को तमिलनाडु की राजनीति में स्थापित कर दिया

दूसरी ओर, हरिप्रसाद के पक्ष में संप्रग के घटक दलों में कांग्रेस के 61 सदस्यों के अलावा, तृणमूल कांग्रेस और सपा के 13- 13 सदस्यों, तेदेपा के छह, माकपा के पांच, बसपा और द्रमुक के चार चार सदस्यों, भाकपा के दो और जद एस के एक सदस्य का समर्थन मिलने की उम्मीद है. आज चुनावों के बाद के नतीजों से ही पता चलेगा कि किस दल की गणना कितनी सही साबित हुई है.

First published: 9 August 2018, 8:31 IST
 
अगली कहानी