Home » इंडिया » Rajya Sabha: dispute over the dress of marshals, now the cap has to be removed
 

राज्यसभा में मार्शलों की ड्रेस पर हुआ था विवाद, अब बिना टोपी के आए नजर

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 November 2019, 8:53 IST

राज्यसभा के मार्शलों का ड्रेस बदलने के बाद पिछले शीतकालीन संसद की कार्यवाही शुरू होने के साथ ही लगातार विवाद होता रहा है. पूर्व आर्मी चीफ भी मार्शलों की ड्रेस पर आपत्ति दर्ज करा चुके हैं. मार्शलों की नई ड्रेस पर हंगामे के कुछ दिनों बाद गुरुवार को मार्शल बगैर पीक कैप में दिखाई दिए.

दरअसल, नए ड्रेस कोड लागू होने के बाद राज्य सभा के मार्शलों की ड्रेस में मिलिट्री की छाप नजर आती है यानि कि मार्शलों की ड्रेस रक्षा कर्मियों की तरह दिखती है. हालांकि गुरुवार को सभापति एम. वेंकैया नायडू के अगल-बगल खड़े मार्शलों के ड्रेस में रोज की तुलना में कुछ बदलाव देखने को मिला.

गुरुवार को मार्शलों ने अपने नए डिजाइन वाले शूट तो पहने थे, लेकिन उन्होंने अपने सिर पर कैप नहीं लगाया था. पहली बार मार्शल बिना कैप के राज्यसभा में नजर आए थे. बता दें कि मार्शलों की सेना जैसी यूनिफॉर्म को लेकर भारी विरोध के बाद सभापति ने मंगलवार को सदन सचिवालय को नई ड्रेस कोड की समीक्षा करने को कहा था.

 

राज्यसभा के कुछ सदस्यों के अलावा सेना के सेवानिवृत्त अधिकारियों ने नई यूनिफॉर्म को लेकर विरोध दर्ज कराया था. राज्य सभा के 250वें सत्र के पहले दिन जब सदस्यों ने मार्शलों को सेना जैसी ड्रेस में देखा था तो बहुत से सदस्य चकित रह गए थे.

विवाद के बाद सभापति नायडू ने ड्रेस कोड की समीक्षा का आदेश देते हुए कहा था, "राज्यसभा सचिवालय विभिन्न सुझावों पर विचार करने के बाद मार्शलों के लिए एक नया ड्रेस कोड लेकर आया है. लेकिन हमें कुछ राजनीतिक लोगों के साथ-साथ कुछ प्रबुद्ध लोगों से भी कुछ टिप्पणियां मिली हैं. इसलिए मैंने फैसला लिया है कि सचिवालय इस पर फिर से विचार करे."

इससे पहले मार्शलों की ड्रेस एक भारतीय पोशाक की तरह होती थी. जिसमें पगड़ी भी शामिल थी. मानसून सत्र के आखिरी दिन तक मार्शल भारतीय पोशाक वाली ड्रेस में ही नजर आए थे.

BHU में संस्कृत के प्रोफेसर फिरोज खान पर विवाद, उनके पिता गाते है राम भजन !

बिहार: NRC के मुद्दे पर आपस में भिड़े भाजपा और जदयू, प्रशांत किशोर ने BJP पर साधा निशाना

First published: 22 November 2019, 8:23 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी