Home » इंडिया » rajya sabha election 2018: bjp wins 10th seat of up rajya sabha, bharatiya janata party, bahujan samaj party, uttar pradesh, samajwadi party
 

यूपी राज्यसभा चुनाव: भाजपा ने लिया बुआ-बबुआ से बदला, छीनी राज्यसभा की 10वीं सीट

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 March 2018, 8:40 IST

यूपी में हुए राज्यसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने सबको चौंकाते हुए 10वीं सीट जीत ली. इस तरह से भाजपा ने बुआ-बबुआ से लोकसभा के उपचुनाव में मिली हार का बदला ले लिया. वहीं देशभर में सात राज्यों में राज्यसभा की 26 सीटों के लिए हुए मतदान में भारतीय जनता पार्टी को सर्वाधिक 12 सीटों पर विजय हासिल हुई. कांग्रेस को पांच, तृणमूल कांग्रेस को चार, जदयू (शरद गुट) को एक और तेलंगाना राष्ट्र समिति को तीन सीटें मिलीं.

इसी के साथ उत्तर प्रदेश में दुश्मन से दोस्त बने बसपा व सपा की दोस्ती काम नहीं आयी और बुआ-बबुआ को हार का मुंह देखना पड़ा. दसवीं सीट पर भाजपा के अनिल अग्रवाल ने जीत दर्ज कर ली और बसपा उम्मीदवार भीमराव आंबेडकर को हार का सामना करना पड़ा. इस तरह राज्य की दस रास सीटों में से नौ भाजपा की झोली में अा गयी.

 

इससे पहले यूपी में हुए गोरखपुर व फूलपुर उपचुनाव में भाजपा को हार का सामना करना पड़ा था. गोरखपुर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पारंपरिक सीट थी. जिसकी वजह से योगी आदित्यनाथ की खूब किरकिरी हुई थी. लोकसभा उपचुनाव में जीत के बाद सपा-बसपा गठबंधन को भाजपा के लिए एक बड़े खतरे के रूप में देखा जा रहा था. लेकिन कहीं न कहीं राज्यसभा चुनाव में मिली हार से सपा-बसपा गठबंधन के मनोबल में कमी आएगी.

हार के बाद बीएसपी ने बीजेपी पर राज्यसभा चुनाव में धांधली का गंभीर आरोप लगाया. बीएसपी के महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने आरोप लगाया कि बीएसपी के प्रत्याशी को हराने के लिए मुख्तार अंसारी को वोट डालने से रोका गया. मिश्रा नेे कहा कि मुख्तार अंसारी को वोट डालने के लिए कोर्ट ने इजाजत दे दी थी, लेकिन उनको वोट नहीं डालने दिया गया.

 

उन्होंने कहा, "जब हमें पता चला कि कोर्ट ने उनके वोट डालने पर रोक लगाई है तो हम चुनाव आयोग के कहने पर कोर्ट गए और वहां से मुख्तार अंसारी को वोट डालने की इजाजत मिल गई थी. लेकिन यूपी की प्रशासन ने उनको जेल से लाकर वोट डलवाने का काम नहींं किया जबकि वह इसके लिए बाध्य था.

पढ़ें- UP राज्यसभा चुनाव 2018: चुनाव आयोग ने सपा-बसपा के आरोपों को किया खारिज, वोटों की गिनती शुरू

उन्होंने कहा कि मुख्तार अंसारी को जानबूझकर वोट डालने से रोका गया, ताकि बीजेपी 9वीं सीट भी जीत सके. इससे पहले के सभी चुनावों में मुख्तार अंसारी को जेल से लाकर वोट डलवाया गया था.

गौरतलब है कि 17 राज्यों से राज्यसभा की 59 सीटें रिक्त हुई थीं, जिनमें से दस राज्यों में 33 प्रत्याशी पहले ही निर्विरोध निर्वाचित हो चुके हैं.

First published: 24 March 2018, 8:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी