Home » इंडिया » Rajya Sabha Elections 2018: big fight between bjp and bsp sp, amit shah new strategy
 

Rajya Sabha Elections 2018: बसपा को हराने के लिए अमित शाह ने अपनायी ये रणनीति

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 March 2018, 13:58 IST

यूपी में राज्यसभा की लड़ाई रोचक होती जा रही है. यहां 10 सीटों के मैदान में कुल 11 उम्मीदवार हैं. हालांकि 9 सीटें तो साफ-साफ दिख रही हैं लेकिन एक सीट पर पेंच फंसता दिख रहा है. 10 सीटों के लिए होने वाले चुनाव में बीजेपी की 8 सीट पक्की है, वहीं सपा की नौंवीं सीट पक्की है, जहां से जया बच्चन का जीतना तय है. 

मगर महाभारत दसवीं सीट के लिए है. इस सीट पर बीजेपी के अनिल अग्रवाल और बसपा के भीमराव अंबेडकर में खिताबी मुकाबला है. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह इसी सीट के लिए अपना दांव पेंच भिड़ाने में जुटे हैं. दसवीं सीट के लिए बसपा की ओर से भीमराव अंबेडकर को सपा का समर्थन प्राप्त है. लेकिन चुनाव से ठीक ऐन पहले यह समीकरण बीजेपी के पाले में जाता दिख रहा है.

दरअसल, अखिलेश यादव की बैठक में उसके 7 विधायक नहीं पहुंचे. इसलिए कायास कुछ भी लगाए जा रहे हैं. इतना ही नहीं, बीजेपी के बढ़त के पीछे एक और अहम पहलू यह है कि नरेश अग्रवाल जो हाल ही में सपा को छोड़ बीजेपी में शामिल हुए हैं, उनके बेटे सपा के बदले बीजेपी को वोट कर सकते हैं.

वहीं सपा के सूत्रों का कहना है कि उसका एक विधायक जेल में है, जिसका वोट उसके साथ है. साथ ही आजम खान और उनके बेटे मीटिंग में शामिल नहीं थे, मगर उनके वोट भी सपा के साथ है.

गौरतलब है कि यूपी में राज्‍यसभा की एक सीट के लिए औसतन 37 विधायकों के वोट की जरूरत होती है. इस हिसाब से देखा जाए तो यूपी की आठ सीटों पर बीजेपी सीधे-सीधे राज्यसभा सदस्य बना लेगी. इसके बाद बीजेपी के पास 28 विधायक अतिरिक्त बच रहे हैं और उसे जीत के लिए सिर्फ नौ और मतों की जरूरत होगी. यानी अभी बीजेपी के पास 28 विधायक हैं और उसे जीत के लिए 9 और चाहिए.

 

वहीं बसपा के पास 19 विधायक हैं, और बसपा के 19, सपा के 10, कांग्रेस के 7 और रालोद के 1 वोट को मिलाकर कुल 37 हो रहे हैं. यानि कि अगर ये सभी बसपा को वोट कर देते हैं तो लगभग यह जीत के बराबर होगा, मगर बीजेपी इनमें से एक को भी तोड़ने में कामयाब होती है, तो फिर यह असंभव हो जाएगा.

पढ़ें- नीतीश का BJP पर निशाना- समाज को बांटने वालों को नहीं करूंगा बर्दाश्त

बता दें कि 2016 के विधान परिषद और राज्यसभा के चुनाव में भी बीजेपी ने विपक्ष के वोटों पर सेंध लगाई थी. ऐसे में सपा, बसपा और कांग्रेस के विधायक अगर क्रॉस वोटिंग करते हैं तो बीजेपी के लिए नौवीं और कुल दसवीं सीट पर भारतीय जनता पार्टी चुनाव जीत सकती है.

First published: 22 March 2018, 13:58 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी