Home » इंडिया » Ram Jethmalani: Feel 'guilty' and 'cheated' for helping Modi, Akhilesh Yadav is the future of country
 

राम जेठमलानी: अखिलेश यादव देश के भविष्य, पीएम मोदी ने तोड़ा भरोसा

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 July 2016, 11:15 IST
(फाइल फोटो)

पूर्व केंद्रीय कानून मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल से राज्यसभा सांसद राम जेठमलानी ने कहा है कि काले धन वापस लाने के लिए पीएम मोदी की मदद का उन्हें अफसोस है. साथ ही उन्होंने यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की जमकर तारीफ की. 

राम जेठमलानी ने रविवार को कहा कि 2014 के लोकसभा चुनाव में विदेशी बैंकों में जमा काला धन वापस लाने समेत तमाम वादों को पूरा करने के उद्देश्य से उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सहयोग किया था, लेकिन अब वह खुद को इसके लिए गुनहगार और ठगा हुआ महसूस करते हैं. 

'पीएम की बातों का भरोसा न करें'

जेठमलानी ने समाजवादी सिंधी समाज के प्रांतीय अधिवेशन में शिरकत करते हुए कहा कि मोदी को प्रधानमंत्री बनाने में उनका भी सहयोग रहा है, क्योंकि उन्होंने लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान विदेशी बैंकों में जमा धन को भारत वापस लाने का वादा किया था.

राज्यसभा सांसद जेठमलानी ने कहा कि प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी काला धन वापस नहीं लाए, जिसकी उन्हें काफी पीड़ा है. अब ऐसा लगता है कि मोदी अपना वादा पूरा नहीं कर पाएंगे.

पूर्व केंद्रीय कानून मंत्री ने इस दौरान कहा, "मैं अपने आपको ठगा हुआ महसूस करता हूं और खुद को गुनहगार मानता हूं कि मैंने मोदी की मदद की. मैं आपके बीच यह भी कहने आया हूं कि आप लोग प्रधानमंत्री की बातों का भरोसा ना करें." 

'अखिलेश की छवि साफ-सुथरी'

साथ ही जेठमलानी ने यूपी के सीएम अखिलेश यादव की प्रशंसा की. उन्होंने कहा, "उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की छवि साफ-सुथरी है और वह देश का भविष्य हैं."

सपा के राज्यसभा सदस्य अमर सिंह ने इस मौके पर कहा कि वह राम जेठमलानी का बहुत सम्मान करते हैं, क्योंकि वह हमेशा न्याय की बात करते हैं.

उन्होंने सिंधी सभा के प्रतिनिधियों को उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने और समाजवादी पार्टी का समर्थन करने की अपील की.

इस मौके पर सिंधी समाज ने सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव को संबोधित एक मांग पत्र भी सौंपा. इसमें समाज को सरकार और संगठन में प्रतिनिधित्व देने, प्रदेश में रहने वाले 35 लाख सिंधियों के विकास के लिए कल्याण बोर्ड गठित करने के अलावा सिंधियों को अल्पसंख्यक दर्जा देने की मांग प्रमुख है.

First published: 4 July 2016, 11:15 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी