Home » इंडिया » Ram temple controversy: Owaisi expressed disaster in the name of Ravi Shankar in the mediation in ayodhya dispute case
 

राम मंदिर विवाद: ओवैसी ने मध्यस्थता कमेटी में रविशंकर के नाम पर जताई आपत्ति

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 March 2019, 13:11 IST

सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद का स्थायी समाधान खोजने के लिए मध्यस्थों के तीन सदस्यीय पैनल की नियुक्ति की.  रिटायर्ड जस्टिस इब्राहिम खलीफुल्लाह की अगुवाई में तीन सदस्यीय मध्यस्थता कमेटी गठित की गई है. इस कमेटी में श्री श्री रविशंकर को शामिल किए जाने का AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने कड़ा विरोधी किया है. 

ओवैसी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थता में श्री श्री रविशंकर को शामिल किया है. उन्होंने कुछ दिन पहले बयान दिया था कि अगर अयोध्या विवाद नहीं सुलझा तो देश में सीरिया जैसे हालात हो जाएंगे. ऐसे बयान देने वालों को इस गठित में शामिल करने से अच्छा होता कि सुप्रीम कोर्ट किसी तटस्थ व्यक्ति को नियुक्त करता.

ओवैसी ने कहा कि अब चूंकि सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुना दिया है, तो अब श्री श्री रविशंकर को निष्पक्ष रहना होगा. उम्मीद है कि मध्यस्थ अपनी जिम्मेदारी समझेंगें.

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय पीठ ने तीन सदस्यीय मध्यस्थता कमेटी गठित की है. रिटायर्ड जस्टिस इब्राहिम खलीफुल्लाह की अगुवाई में मध्यस्थता कमेटी का गठन हुआ है. इनके अवाना इसमें श्रीश्री रविशंकर और श्रीराम पंचू शामिल हैं.

अयोध्या रामजन्मभूमि-बाबरी विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थता के लिए तय किए ये 3 नाम

 

First published: 8 March 2019, 13:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी