Home » इंडिया » Ramachandra Guha won’t teach in Gujarat After ABVP calls him anti-national and wants him out
 

गुजरात में नहीं पढ़ाएंगे इतिहासकार रामचंद्र गुहा, ABVP ने किया था नियुक्ति का विरोध

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 November 2018, 10:07 IST

जाने माने इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने अहमदाबाद यूनिवर्सिटी में पढ़ाने से इंकार कर दिया है. गुहा ने गुरुवार को एक ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है. इससे पहले आरएसएस के छात्र संगठन ABVP ने गुहा की नियुक्ति की मांग को रद्द कर की मांग की थी. 16 अक्टूबर को अहमदाबाद यूनिवर्सिटी ने ऐलान किया था कि गुहा को स्कूल ऑफ आर्ट्स एंड साइंसेज में प्रोफ़ेसर और गांधी विंटर स्कूल में डायरेटर के तौर पर नियुक्त किया जायेगा. 19 अक्टूबर को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के सदस्यों ने निर्णय के खिलाफ अपना विरोध दर्ज कराया था.

इसकी पुष्टि करते हुए अहमदाबाद शहर के एबीवीपी के सचिव प्रवीण देसाई ने "हमने एयू रजिस्ट्रार बी एम शाह को एक ज्ञापन दिया था. जिसमे हमने कहा कि हम अपने शैक्षिक संस्थानों में बौद्धिक चाहते हैं, उनको जिन्हें 'अर्बन नक्सल'भी कहा जा सकता है''.

 

देसाई ने कहा ''हमने रजिस्ट्रार के सामने गुहा की किताबों की राष्ट्रीय-विरोधी सामग्री उनके सामने रखी. हमने उसे बताया, जिस व्यक्ति को आप बुला रहे हैं वह 'कम्युनिस्ट' है'. अगर उन्हें गुजरात में आमंत्रित किया जाता है, तो एक जेएनयू-तरह की राष्ट्रीय-विरोधी भावना होगी."

संपर्क करने पर, एयू के रजिस्ट्रार ने कहा: "विश्वविद्यालय ने इस घोषणा पर कोई टिप्पणी नहीं की है. मुझे ट्वीट से इस बारे में पता चला है. एयू चांसलर के कार्यालय संजय लालभाई, जो अरविंद लिमिटेड के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक हैं, अख़बार के सवाल का जवाब नहीं दिया.

अहमदाबाद विश्वविद्यालय 2009 में अहमदाबाद एजुकेशन सोसाइटी द्वारा स्थापित किया गया था. कपड़ा उद्योग के कारोबारी कस्तुरभाई लालभाई द्वारा सरदार वल्लभभाई पटेल के आदेश पर दो दशक पहले एईएस की स्थापना हुई थी.

First published: 2 November 2018, 10:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी