Home » इंडिया » Ranjan Gogoi sworn in as member of Rajya Sabha, opposition parties walk out
 

रंजन गोगोई ने ली राज्यसभा सदस्य की शपथ, विपक्षी दलों ने किया वॉक आउट

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 March 2020, 12:12 IST

भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने गुरुवार को राज्यसभा के सदस्य के रूप में शपथ ली. राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने 17 नवंबर 2019 को मुख्य न्यायाधीश के रूप में सेवानिवृत्त होने के ठीक चार महीने बाद उन्हें सोमवार को उच्च सदन में नामित किया था. रंजन गोगोई के शपथ लेते ही विपक्षी दलों के सदस्यों ने सदन से वॉक आउट किया. जैसे ही गोगोई राज्यसभा में अपने निर्धारित स्थान पर पहुंचे, विपक्षी सदस्यों ने नारे लगाने शुरू कर दिए. पूर्व सीजेआई गोगोई के राज्यसभा भेजे जाने पर कई विपक्षी नेताओं ने सवाल उठाये हैं.  

गोगोई ने मंगलवार को कहा था कि संसद में उनकी उपस्थिति न्यायपालिका के विचारों को पेश करने का एक अवसर होगा. उन्होंने यह भी कहा कि वह शपथ लेने के बाद राज्यसभा के नामांकन को स्वीकार पर सवालों के जवाब देंगे. कई राजनेताओं और सुप्रीम कोर्ट के दो सेवानिवृत्त न्यायाधीशों मदन बी लोकुर और कुरियन जोसेफ ने गोगोई के राज्यसभा जाने की आलोचना की है. जस्टिस मदन बी लोकुर ने कहा था कि यह न्यायपालिका का आखिरी किला ढहने जैसा है.


पूर्व सीजेआई गोगोई ने 12 जनवरी 2018 को जेएस चेलमेश्वर, मदन बी लोकुर और कुरियन जोसफ के एक अभूतपूर्व प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की थी. इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने तत्कालीन सीजेआई दीपक मिश्रा के कामकाज के तरीकों पर सवाल उठाये थे. 

दिल्ली आकर शपथ लेने दीजिये, फिर बताऊंगा क्यों जा रहा रहा हूं राज्यसभा: रंजन गोगोई

अपनी सेवानिवृत्ति के कुछ दिन पहले गोगोई ने अयोध्या भूमि विवाद मामले एक महत्वपूर्ण फैसला सुनाया था. सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों वाली संविधान पीठ ने सर्वसम्मति से विवादित अयोध्या भूखंड को एक ट्रस्ट को आवंटित करने का फैसला किया, जो राम मंदिर के निर्माण की देखरेख करेगा. पीठ ने यह भी फैसला दिया था कि मस्जिद के निर्माण के लिए अयोध्या में एक अलग पांच एकड़ का भूखंड आवंटित किया जाना चाहिए.

मध्य प्रदेश: शिवराज सिंह चौहान ने जोरदार छक्का जड़ लिखा ऐसा कैप्शन, कांग्रेस की उड़ सकती है नींद

First published: 19 March 2020, 12:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी