Home » इंडिया » Relationship between Atal Bihari Vajpayee and Rajkumari Kaul unmarried Atal Bihari Vajpayee friendship with married Rajkumari kaul
 

अटल बिहारी वाजपेयी और राजकुमारी कौल: ये था कुंवारे राजनेता और शादीशुदा दोस्त के बीच का अटूट रिश्ता

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 August 2018, 14:56 IST
(File Photo)

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी दिल्ली के एम्स में लाइफ सपॉर्ट सिस्टम पर हैं. पिछले करीब दो महीने से अस्पताल में भरती अटल बिहारी वाजपेयी की हालत पिछले कुछ घंटों से बेहद नाजुक बनी हुई हैं. अटल बिहारी वाजपेयी का हाल जानने के लिए प्रधानमंत्री मोदी के अलावा देश के कई बड़े राजनेता और मुख्यमंत्री एम्स पहुंचे हैं. पूरा देश अटल बिहारी वाजपेयी की लंबी उम्र और राजनीति के इस पुरोधा की सलामती की दुआ कर रहा है.

वहीं, अटल बिहारी वाजपेयी से जुड़े कई मजेदार वाकये हैं, जो उन्हें सबसे अलग करते हैं. दरअसल, एक बार उनसे पत्रकारों ने सवाल पूछा था कि आप अब तक कुंवारे क्यों हैं? अटल बिहारी वाजपेयी ने भी इस सवाल का जवाब अपनी वाकपटु शैली के माध्यम से दिया. अटल बिहारी वाजपेयी ने पत्रकारों को लाजवाब जवाब देते हुए कहा था, "मैं अविवाहित हूं लेकिन कुंवारा नहीं हूं."

अटल बिहारी वाजपेयी के इस बयान का मर्म चाहे जो भी निकाला जाए, लेकिन इस कुंवारे राजनेता की ज़िंदगी का एक हिस्सा ग्वालियर के विक्टोरिया कॉलेज से भी जुड़ा हुई है. अटल बिहारी वाजपेयी का ये वो अतीत है जिसका जिक्र दबे जुबान से यदा-कदा हो ही जाता है.

ग्वालियर में जन्मे अटल बिहारी वाजपेयी और राजकुमारी कौल(2 मई 2014 को निधन) का उनसे एक खास नाता था. दोनों का ये रिश्ता तब पनपा जब दोनों ग्वालियर के विक्टोरिया कॉलेज में पढ़ते थे. उन दिनों अटल बिहारी वाजपेयी पढ़ाई के साथ-साथ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ(आरएसएस) में प्रचारक तो थे ही साथ ही वह जनसंघ की राजनीति से भी जुड़े.

वहीं, राजकुमारी कौल का परिवार शादी के बाद दिल्ली यूनिवर्सिटी के रामजस कॉलेज में सेटल हो गया. राजकुमारी कौल के पति बीएन कौल रामजस कॉलेज के दर्शन विभाग के हेड ऑफ डिपार्टमेंट बन गए. कौल का परिवार कैंपस में रहता था. कहते हैं कि इसी दौरान ग्वालियर की दोस्ती एक बार फिर परवान चढ़ी और वाजपेयी दोबारा कौल परिवार के संपर्क में आए.

अटल बिहारी वाजपेयी ने कॉलेज के दिनों की अपनी दोस्त राजकुमारी कौल के साथ रिश्तों को लेकर कभी कोई सार्वजनिक बयान नहीं दिया. लेकिन, राजकुमारी की शादी के बाद पति बीएन कौल के घर में वे काफी समय तक रहे थे. एक पत्रिका को दिए इंटरव्यू में राजकुमारी कौल ने कहा था, "मैंने और अटल बिहारी वाजपेयी ने कभी इस बात की ज़रूरत नहीं महसूस की कि इस रिश्ते के बारे में कोई सफ़ाई दी जाए."

राजकुमारी कौल का अविवाहित अटल बिहारी वाजपेयी के घर से क्या नाता था, इस पर कुछ भी साफ-साफ नहीं निकलकर आया. हालांकि राजकुमारी कौल के निधन(2 मई 2014) के बाद वाजपेयी के आवास से जो प्रेस रिलीज जारी की गई थी, उसमें उन्हें वाजपेयी के ‘घर का सदस्य’ संबोधित किया गया था. राजकुमारी कौल, प्रधानमंत्री रहते हुए भी वाजपेयी के घर की सदस्य थीं. पीएम निवास सात, रेसकोर्स रोड पर वे अपनी बेटी और अपने दामाद रंजन भट्टाचार्य के साथ रहती थीं.

अटल बिहारी वाजपेयी ने राजकुमारी कौल की बेटी नमिता कौल को गोद लिय था. इस दौरान वाजपेयी के साथ-साथ घर की देखभाल का जिम्मा उनके ही के पास था. वहीं, राजनीतिक विश्लेषकों के मुताबिक तीन बार वाजपेयी के प्रधानमंत्री रहने के दौरान कौल परिवार से ही वाजपेयी का घर संचालित था. इस बात को भाजपा-संघ परिवार से लेकर तत्कालीन विपक्ष यानी कांग्रेस सभी ने सहजता से स्वीकार किया.

File Photo

इन सबके बीच अटलजी के जीवन में राजकुमारी कौल की प्रासंगिकता पर भले ही ज्यादा कुछ बाहर निकलकर नहीं आया, लेकिन अहमियत का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि जब 86 साल की उम्र में ढाई साल पहले उनका निधन हुआ, तो अंतिम विदाई देने के लिए बीजेपी से लेकर कांग्रेस के सभी बड़े नेता मौजूद थे.

उनके अंतिम संस्कार में लालकृष्ण आडवाणी, सुषमा स्वराज, राजनाथ सिंह, अरुण जेटली और रवि शंकर प्रसाद के अलावा कांग्रेस के ज्योतिरादित्य सिंधिया भी शामिल हुए. कुल मिलाकर अटल बिहारी वाजपेयी और राजकुमारी कौल का ये किस्सा एक कुंवारे राजनेता और शादीशुदा दोस्त की दास्तां जैसा है. इसे कोई भी नाम देने के लिए आप स्वतंत्र हैं.

First published: 16 August 2018, 14:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी