Home » इंडिया » Religious Freedom in India on a Downward Trend coz of RSS and VHP says US Govt Report
 

अमेरिकी रिपोर्ट: भारत में दलित और अल्पसंख्यकों की खराब हालत के जिम्मेदार RSS-VHP जैसे संगठन

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 April 2018, 15:32 IST

अमेरिकी रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि भारत में दलित और अल्पसंख्यकों के खिलाफ बढ़ती हिंसा और बुरे होते हालातोंं के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और विश्व हिंद परिषद (विहिप) जैसे संगठन जिम्मेदार हैं. अमेरिकी सरकार द्वारा गठित आयोग यूएस कमीशन फॉर इंटरनेशनल रिलीजियस फ्रीडम (यूएससीआईआरएफ) ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि भारत में पिछले साल धार्मिक स्वतंत्रता की स्थितियों में गिरावट जारी रही.

यूएससीआईआरएफ की रिपोर्ट में बताया गया कि हिंदू राष्ट्रवादी समूहों ने अल्पसंख्यकों और हिंदू दलितों के विरुद्ध हिंसा, धमकी और उत्पीड़न के माध्यम से देश का भगवाकरण की कोशिश की. यूएससीआईआरएफ ने अपनी रिपोर्ट में भारत को अफगानिस्तान, अजरबैजान, बहरीन, क्यूबा, मिस्र, इंडोनेशिया, इराक, कजाकिस्तान, लाओस, मलेशिया और तुर्की के साथ खास चिंता वाले टीयर टू देशों में रखा है.

 

यूएससीआईआरएफ के अनुसार, आरएसएस, विहिप जैसे हिंदू संगठनों द्वारा अल्पसंख्यकों और दलितों को अलग-थलग करने के लिए चलाये गये बहुआयामी अभियान के चलते धार्मिक अल्पसंख्यकों की दशाएं पिछले दशक के दौरान बिगड़ी हैं. उसने अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता पर अपनी नवीनतम रिपोर्ट में कहा है कि इस अभियान के शिकार मुसलमान, ईसाई, सिख, बौद्ध, जैन और दलित हिंदू हैं.

पढ़ें- कर्नाटक चुनाव: BJP के लिए प्रचार करेंगे खनन माफिया और घोटाले के आरोपी रेड्डी ब्रदर्स

यूएससीआईआरएफ ने कहा, "ये समूह अपने विरुद्ध हिंसक कार्रवाई, धमकी से लेकर राजनीतिक ताकत हाथ से चले जाने तथा मताधिकार छिन जाने की बढ़ती भावना से जूझ रहे हैं. भारत में 2017 धार्मिक स्वतंत्रता की स्थितियों में गिरावट जारी रही."

First published: 28 April 2018, 15:32 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी