Home » इंडिया » Reserve Bank of India(RBI) dividend to modi government halves to Rs 30,659 crore while Rs 65876 crore it transferred to last year.
 

मोदी सरकार की मुश्किलें बढ़ना तय, RBI ने दिया बड़ा झटका

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 August 2017, 11:06 IST

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने मोदी सरकार को तगड़ा झटका दिया है. रिजर्व बैंक ने गुरुवार को कहा है कि वो सरकार को फाइनेंशियल ईयर 2016-17 के लिए लाभांश के तौर पर 30,659 करोड़ रुपये देगा. ये रकम पिछले साल दी गई कीमत के मुकाबले आधे से भी कम है.

रिजर्व बैंक ने लाभांश में कमी की कोई वजह नहीं बताई है, लेकिन अर्थशास्त्री इसे नोटबंदी का नतीजा मान रहे हैं. उनका कहना है कि 500 रुपये के पुराने नोट और 1,000 रुपये के नोट बंद होने के बाद नए नोट छापने और पुराने नोट खत्म करने में केंद्रीय बैंक को भारी रकम खर्च करनी पड़ी है. इसी कारण इस बार लाभांश में इतनी अधिक कमी आई है.

गौरतलब है कि 2011-12 के बाद यह पहला मौका है जब सरकार को रिजर्व बैंक से इतना कम लाभांश मिलने जा रहा है. 2011-12 में सरकार को 16,010 करोड़ रुपये मिले थे. रिजर्व बैंक का वित्त वर्ष जुलाई से जून तक चलता है. बैंक अपनी वार्षिक रिपोर्ट अगले हफ्ते प्रकाशित कर सकता है.

दरअसल रिजर्व बैंक के गवर्नर ऊर्जित पटेल ने जुलाई में संसदीय समिति को बताया था कि अभी पुराने नोटों की गिनती पूरी नहीं हो पाई है. इससे पहले भी उन्होंने कहा था कि जो नोट नहीं लौटे हैं, वे रिजर्व बैंक की देनदारी में शामिल हैं और ऐसे नोटों को सरकार को लाभांश के तौर पर नहीं दिया जा सकता. इसके बाद साफ है कि कम लाभांश मिलने से सरकार पर दबाव बढ़ेगा, राजकोषीय घाटा पूरा करने में दिक्कत आएगी.

First published: 11 August 2017, 11:06 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी