Home » इंडिया » retired high court seen dragging daughter in law in the video
 

दूसरों को न्याय देने वाले जज साहब पर लगा दहेज के नाम पर अपनी ही बहू को पीटने का आरोप

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 September 2019, 15:48 IST

मद्रास व आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट से महज 5 महीने पहले रिटायर हुए जस्टिन नूती राम मोहन राव पर अपनी बहू के साथ मारपीट करने का आरोप लगा है. एक वीडियो सोशल मीडिया के जरिये सामने आया है, जिसमें वो अपनी पत्नी और बेटे के साथ मिलकर अपनी बहू  के साथ मारपीट कर रहे हैं. रिटायर्ड जस्टिस राव की बहू एम सिंधू शर्मा ने एक वीडियो जारी किया है. जिसमें रिटायर्ड जस्टिस राव बहू का हाथ खींचते हुए सोफे पर ढकेलते हुए नजर आ रहे हैं.

न्यूज़ वेबसाइट द न्यूज़ मिनट के अनुसार 2.20 मिनट के वीडियो में राव के बेटे अपनी पत्नी सिंधू के साथ बहस करने के बाद पिटाई करते नजर आ रहे हैं. वीडियो में दिख रहा है कि राव और उनकी पत्नी, सिंधू को धूंसा और चांटे मार रहे हैं. इसके बाद रिटायर्ड जस्टिस राव बहू का हाथ खींचते हुए सोफे पर ढकेलते नजर आ रहे हैं. हालांकि कैच न्यूज़ इस वीडियो की पुष्टि नहीं करता है.


क्या है पूरा मामला

रिपोर्ट के अनुसार 27 अप्रैल को सिंधू ने हैदराबाद सेंट्रल क्राइम स्टेशन में अपने पति और सास के खिलाफ शारीरिक और मानसिक प्रताड़ना और परेशान करने की शिकायत दर्ज कराई थी. सिंधू ने बताया था कि 20 अप्रैल में उसके साथ मार पीट की गईं थी. इसके बाद उन लोगों ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया था. पीड़िता के पिता का कहना है कि उन्होंने सिंधू को इतना पीटा की उसके पीठ, छाती और हाथों पर कट और खंरोच हैं. इसके बाद उन्होंने खुद अस्पताल में भर्ती कराया.

रिपोर्ट के अनुसार सिंधू के पिता का कहना है कि दहेज के लिए मेरी बेटी को कई वर्षों से परेशान कर रहे थे. राव को अपने बेटे के कांस्ट्रक्शन बिजनेस में लांच करने के लिए ज्यादा पैसे चाहते थे. मेरी बेटी के मना करने पर वो लोग उसके साथ मारपीट करते थे.

मामले में डीसीपी का बयान

डीसीपी अविनाश मोहंती ने बताया है कि शिकायत दर्ज करने वालों से फुटेज देने के लिए कहा था लेकिन काफी दिनों तक उन्होंने कोई वीडियो क्लिप नहीं दी. उन्होंने कहा कि अप्रैल के बाद कई नोटिस भेजने के बावजूद सिंधू ने कोई वीडियो नहीं जारी किया. उन्होंने आगे कहा कि वीडियो जारी सिंधू के परिवार वालों के जारी किया है. हम इसकी जांच करेंगे और कार्रवाई शुरू करेंगे. अब इस मामले की सुनवाई 23 सितंबर को होनी है. 

आधार कार्ड पर एड्रेस बदलवाना है बहुत आसान, UIDAI ने बताये ये दो आसान तरीके

First published: 21 September 2019, 15:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी