Home » इंडिया » Road construction will start near China border, more than 11,000 laborers will be taken by 11 trains
 

चीन सीमा के करीब भारत शुरू करेगा सड़क निर्माण, मजदूरों को ले जाने के लिए 11 ट्रेनें मंगाई गई

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 June 2020, 11:13 IST

रक्षा मंत्रालय ने झारखंड से जम्मू और चंडीगढ़ श्रमिकों को ले जाने के लिए 11 विशेष ट्रेनों की मांग की है, जहां से उन्हें चीनी सीमा के नजदीक सड़क निर्माण के लिए ले जाया जायेगा. हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार तीन अधिकारियों ने नाम न छापने की शर्त पर यह जानकारी दी है. यह कदम ऐसे वक्त में उठाया गया है जब भारतीय और चीनी सैनिक लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर आमने-सामने हो गए हैं. हालांकि एक अधिकारी ने कहा ''यह निर्माण मौजूदा गतिरोध के कारण नहीं है. काम करने का मौसम शुरू हो गया है और हम समय बर्बाद नहीं कर सकते. उन्होंने कहा कि लद्दाख में रणनीतिक दरबुक-श्योक-डोलेट बेग ओल्डी सड़क पर कुछ काम पहले ही शुरू हो चुका है''.

रिपोर्ट के अनुसार एक अधिकारी ने कहा कि 11,815 श्रमिकों को 11 ट्रेनों पर ले जाया जाएगा और फिर लद्दाख और जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में सीमावर्ती क्षेत्रों में पहुंचा दिया जाएगा, जहां सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) महत्वपूर्ण सड़कों का निर्माण कर रहा है. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने 22 मई को रेलवे मंत्रालय से झारखंड से जम्मू और चंडीगढ़ के लिए विशेष ट्रेनों की व्यवस्था करने के लिए कहा है.


केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गुरुवार को झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के साथ श्रमिकों के मुद्दे पर चर्चा की, जब वह मुख्यमंत्रियों से लॉक डाउन प्लान पर चर्चा कर रहे थे. कहा गया है कि ज्यादातर वर्कर दुमका से हैं. राज्य सरकार केंद्र को बताएगी कि वे कब सीमावर्ती क्षेत्रों में जाकर काम कर सकते हैं.” चीन ने लद्दाख सेक्टर में विवादित सीमा के करीब 5,000 सैनिकों और तोपों की तैनाती की है.

लद्दाख प्रशासन ने 15 मई को बीआरओ को लिखा था कि उसे आगे के क्षेत्रों में काम के लिए शामिल किए जा रहे श्रम बल से कोई आपत्ति नहीं है. इसमें कहा गया है कि 14 दिनों तक लद्दाख पहुंचने के बाद मजदूरों को छोड़ दिया जाएगा और निर्माण कार्य के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग के मानदंडों का सख्ती से पालन किया जाएगा. बीआरओ के काम मौसम ज्यादातर मई से नवंबर तक होता है. प्रवासी श्रमिक संगठन के कार्यबल का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं जो लद्दाख, जम्मू और कश्मीर, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश और सिक्किम में रणनीतिक सड़कों के निर्माण में शामिल हैं.

जासूसी करते पकड़े गए पाक उच्चायोग के दो अधिकारी, 24 घंटे में छोड़ना होगा भारत

First published: 1 June 2020, 11:05 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी