Home » इंडिया » Robert Vadra contact with arms dealer Sanjay Bhandari, blame game started between BJP & Congress, Amit Shah's son Jay Shah case
 

राबर्ट वाड्रा-जय शाह को लेकर शुरू हुआ भाजपा-कांग्रेस का आरोप-प्रत्यारोप गेम

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 October 2017, 14:50 IST

अमित शाह के बेटे जय शाह पर लगे व्यवसाय में तेजी से बढ़ोतरी के आरोपों के बाद रॉबर्ट वाड्रा और हथियार डीलर संजय भंडारी के बीच संबंधों को लेकर उठे सियासी तूफान के बाद अब भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के बीच आरोप-प्रत्यारोप गेम शुरू हो चुका है.

मंगलवार को भाजपा ने कांग्रेस से पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद राबर्ट वाड्रा और हथियारों के डीलर संजय भंडारी के संबंधों को लेकर जवाब मांगा था. रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने वाड्रा और हथियारों के डीलर जो फिलहाल फरार होकर ब्रिटेन में है, के बीच के संबंधों को लेकर मीडिया में आई रिपोर्टों का हवाला देते हुए कहा, "वाड्रा मामले को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता चुप क्यों हैं?"

वहीं, कांग्रेस ने आरोप लगाया कि राबर्ट वाड्रा के खिलाफ भाजपा के आरोप राजनीति से प्रेरित हैं और यह पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह पर लगे गंभीर आरोपों से लोगों का ध्यान हटाने के लिए लगाए गए हैं.

गौरतलब है कि भंडारी ऑफसेट इंडिया सोल्युशंस नाम की एक रक्षा सलाहकार कंपनी चलाता था, जिस पर स्विटजरलैंड की कंपनी पिलाटस के लिए जेट ट्रेनर के सौदे में रिश्वत लेने का आरोप है.

भंडारी-वाड्रा संबंधों का खुलासा करनेवाली नवीनतम मीडिया रिपोर्ट में समाचार चैनल टाइम्स नाउ ने दावा किया है कि उसके पास ऐसे ईमेल हैं, जिससे साबित होता है कि दोनों के बीच घने संबंध हैं.

चैनल ने दावा किया है कि भंडारी ने साल 2012 के अगस्त में वाड्रा के लिए 8 लाख रुपये की एमिरेट्स फ्लाइट्स की टिकटें खरीदीं थीं. कांग्रेस ने टाइम्स नाउ की रिपोर्ट पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है. निर्मला ने कहा, "कांग्रेस नेतृत्व की चुप्पी यह जाहिर करती है वे इसे जानते हैं."

उन्होंने कहा कि दोनों के बीच संबंधों का पता लगाना सीबीआई जैसी जांच एजेंसियों का काम है. वह केवल कांग्रेस से इस मामले पर चुप्पी तोड़ने को कह रही हैं. निर्मला ने कहा, "मैंने उनके बीच संबंध नहीं जोड़ रही हूं. उनके बीच के संबंधों का पता लगाना गृह मंत्रालय और सीबीआई का काम है."

दूसरी तरफ कांग्रेस प्रवक्ता संजय झा ने समाचार एजेंसी आईएएनएस से कहा, "यह भाजपा का राजनीति से प्रेरित प्रयास है. इसका मकसद अमित शाह के बेटे जय शाह पर लगे गंभीर आरोपों से लोगों का ध्यान हटाना है जिनकी संपत्ति महज एक साल में सोलह हजार गुना बढ़ गई है."

उन्होंने कहा, "वे लोग मीडिया की आजादी का गला घोटना चाहते हैं. वे डरे हुए हैं और किसी तरह की जांच नहीं होने देना चाह रहे हैं."

झा ने कहा, "कांग्रेस इस मुद्दे को उठाएगी और इसे देश की सड़कों पर ले जाएगी. हम पहले ही अमित शाह के बेटे के भ्रष्टाचार को उजागर करने के लिए राष्ट्रव्यापी अभियान चला रहे हैं."

First published: 18 October 2017, 14:50 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी