Home » इंडिया » Robert Vadra denies all links with Sanjay Bhandari-benami London mansion row
 

लंदन में रॉबर्ट वाड्रा और हथियार डीलर की कथित प्रॉपर्टी डील पर विवाद

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:50 IST
(फाइल फोटो)

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा पर बीजेपी सांसद किरीट सोमैया ने लंदन में हथियार डीलर से संपत्ति खरीदने का आरोप लगाया है. आरोप है कि 2009 में वाड्रा ने विवादित हथियार डीलर संजय भंडारी से लंदन में एक बेनामी संपत्ति खरीदी और 2010 में इसे बेच दिया.

इस बीच केंद्र सरकार ने इस मामले में जांच शुरू कर दी है. बीजेपी सांसद किरीट सोमैया ने केंद्रीय वित्त मंत्रालय, प्रवर्तन निदेशालय और आयकर विभाग को खत लिखकर इस मामले में जांच की मांग की थी. हालांकि रॉबर्ट वाड्रा के वकील ने किरीट सोमैया के आरोपों को खारिज किया है.

हथियार डीलर संजय भंडारी से डील!

इस बीच कांग्रेस प्रवक्‍ता रणदीय सुरजेवाला ने कहा, "कांग्रेस के विरोधियों द्वारा रॉबर्ट वाड्रा को सुव्‍यवस्थित ढंग से निशाना बनाया जा रहा है." जांच एजेंसियों की दो रिपोर्टों के आधार पर सरकारी जांच आधारित है. ये रिपोर्ट कथित रूप से रॉबर्ट वाड्रा और उनके सहयोगी मनोज अरोड़ा द्वारा भेजे गए ई-मेल पर आधारित है.

एक निजी चैनल के पास ये रिपोर्ट उपलब्ध है. जिसमें हथियारों के विवादित सौदेबाज संजय भंडारी से की गई पूछताछ का भी पूरा ब्‍यौरा है. पिछले महीने एनफोर्समेंट एजेंसियों ने भंडारी के 18 ठिकानों पर छापा मारा था. कर अधिकारियों और एनफोर्समेंट विभाग द्वारा इन छापों के बाद दो जांच रिपोर्ट तैयार की गई.

रिपोर्ट के मुताबिक कथित तौर पर रॉबर्ट वाड्रा और उनके सहयोगी मनोज अरोड़ा ने कई ई-मेल भेजे, जिसमें लेन-देन और लंदन के घर के रेनोवेशन से जुड़ी बातें हैं.

2009 में बेनामी घर खरीदने का आरोप

बताया जा रहा है कि लंदन के ब्रायन्स्टन स्क्वायर पर स्थित 12 एल्लर्टन हाउस को 19 लाख पाउंड यानी करीब 19 करोड़ रुपये में खरीदा गया. आरोप है कि यह सौदा अक्टूबर 2009 में हुआ और जून 2010 में इसे बेच दिया गया.

इस डील को लेकर उठ रहे सवालों पर रॉबर्ट वाड्रा के वकील ने एक निजी न्यूज़ चैनल को ई-मेल से जवाब भेजा है. वाड्रा के वकील ने कहा है कि वो किसी भी प्रकार प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से उल्लेख की गई संपत्ति 12, एल्लरटन हाउस, ब्रायन्स्टन स्क्वायर, लंदन से जुड़े हुए नहीं हैं. यह भी कहा है कि वाड्रा और उनके सहयोगी, हथियार डीलर संजय भंडारी से किसी भी प्रकार के वित्तीय लेन-देन से नहीं जुड़े हैं.

लंदन के ब्रायन्स्टन स्क्वायर में घर

वहीं बीजेपी सांसद किरीट सोमैया ने इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह चौंकाने वाला तो है, लेकिन इसमें आश्चर्यजनक कुछ भी नहीं है. मैं ईडी और आयकर विभाग से आग्रह करूंगा कि वह कथित संपत्ति और पूरे में मामले में वित्तीय अनियमित्ता या अपारदर्शिता की जांच करें.

संजय भंडारी ऑफसेट इंडिया सॉल्यूशंस (ओआईएस) कंपनी के मालिक हैं. मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद खुफिया ब्यूरो की रिपोर्ट ने 2014 में उनसे संबंधित डील पर सवाल उठाए और रक्षा मंत्रालय को भंडारी से दूरी बनाए रखने की सलाह दी.

रिपोर्ट के मुताबिक संजय भंडारी से साफ पूछा गया है कि ब्रायन्स्टन स्क्वायर में संपत्ति की खरीद-बिक्री से रॉबर्ट वाड्रा का क्या लेना-देना है? इस बात पर उन्होंने सीधा जवाब देने से बचते हुए कहा कि लंदन में उनके वकील के पास सेल डीड से जुड़े कागजात हैं. जांचकर्ताओं का कहना है कि भंडारी ने रेड के दौरान ब्लैकबेरी फोन को नष्ट करने की कोशिश भी की. हालांकि वे लोग उनके फोन और कंप्यूटर्स से डाटा रिकवर करने में सफल रहे.

महज एक लाख रुपये की प्रदत्त पूंजी (पेड-अप कैपिटल) के साथ भंडारी ने 2008 में ओआईएस कंपनी बनाई थी. उनकी अब 35 संदिग्ध शेल कंपनियों से जुड़े वित्तीय मामलों से संबंधित उल्लंघन के आरोप की जांच की जा रही है, जोकि 2009 से 2014 के बीच के हैं. हाल ही में ओआईएस ने 38 कॉम्बेट एयरक्राफ्ट के पार्ट्स की सप्लाई की एक डील हासिल की है. ये पार्ट्स भारत डेजॉल्ट एविएशन से खरीद रहा है.

इस बीच बीजेपी सांसद किरीट सोमैया ने ट्वीट करते हुए कहा है कि संदिग्ध हथियार डीलर संजय भंडारी को कंपनियों से हुए वित्तीय लेन-देन के साथ ही लंदन के घर पर अपना रुख साफ करना चाहिए.

First published: 31 May 2016, 11:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी