Home » इंडिया » rohitash-lamba-died-in-pulwama-attack-could-not-see-new-born-daughter-face
 

Pulwama attack: जवान की पत्नी ने 3 महीने पहले बेटी को दिया जन्म, चेहरा देखने से पहले हुआ शहीद

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 February 2019, 11:40 IST

जम्मू कश्मीर के पुलवामा आतंकी हमले से पूरे देश में आक्रोश का महौल फैला है. इस हमले में 40 से ज्यादा जवान शहीद हो गए. वहीं, कई जवानों के घायल होने की खबर है. इस हमले में राजस्थान के एक जवान ने अपनी जान गवां दी. शहीद हुए जवान का नाम रोहिताश लांबा है, जिसके शहीद होने की खबर सुनकर भी उनके घर में मातम पसर गया है. बताया जा रहा है कि शहीद रोहिताश लांबा की एक साल पहले शादी हुई थी, जिसकी तीन महीने की एक बेटी है. रोहिताश ने अभी तक अपनी बेटी का चेहरा तक नहीं देखा था.

Pulwama attack: आतंक से निपटने के लिए भारत के साथ खड़े हुए रूस-अमेरिका और फ्रांस, पड़ोसी देशों ने भी दिखाई एकजुटता

रोहिताश के एक करीबी दोस्त ने बताया कि रोहितांश होली के मौके पर घर आने वाला था, लेकिन घर आने से पहले वो शहीद हो गए. उनकी शहादत की खबर सुनकर घर में ही नहीं बल्कि पूरे गांव में शोक का माहौल है. शहीद रोहितांश के दोस्त ने बताया कि घर पर सब अच्छा चल रहा था तभी श्रीनगर से आए एक फोन कॉल से रोहिताश के घर पर मातम पसर गया. फोन पर सीआरपीएफ के मेजर ने घर वालों को शहादत की खबर दी तो सुनकर सबके होश उड़ गए.

इस खबर को सुनते ही रोहिताश के भाई जीतेंद्र लांबा की तो तबीयत बिगड़ गई. आसपास के लोगों को गांव के बेटे की शहादत की खबर लगी तो सब इकठ्ठा हो गए. पूरा गांव रात भर जागता रहा. गांव में अलग-अलग जगह लोग सामने बैठे रहे और रोहिताश की शहादत, उसकी बहादूरी की चर्चा करते रहे.

Pulwama attack: हमले में मारे गए जवान नहीं कहलाएंगे शहीद, जानें क्या है वजह

मालूम हो कि जम्मू-कश्मीर के पुलवामा गुरुवार को हुए आतंकी हमले में 40 से अधिक जवानों ने अपनी जान गवा दी. वहीं, 45 जवानों की हालत गंभीर बनी हुई है. हमले के बारे में बताया जा रहा है कि CRPF के काफिले पर आतंकियों ने IED ब्लास्ट किया. IED ब्लास्ट करने के बाद आतंकियों ने फायरिंग भी की. इस काफिले में 24 सौ से अधिक जवान थे, जो जम्मू से श्रीनगर की ओर जा रहे थे. आतंकियों ने दो बसों को अपना निशाना बनाया.

First published: 15 February 2019, 11:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी