Home » इंडिया » RSS calls for strict action against anti-national forces in universities
 

विश्वविद्यालयों में 'राष्ट्रविरोधी' ताकतों पर कड़ी कार्रवाई करे सरकार: आरएसएस

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:52 IST

राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (आरएसएएस) ने केंद्र सरकार से विश्वविद्यालयों में 'देश विरोधी गतिविधियों' में शामिल 'असामाजिक' तत्वों पर कड़ी कार्रवाई करने को कहा है.

आरएसएस ने सवाल उठाया कि जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में लगे देश को तोड़ने वाले नारों को आखिर कैसे सहन किया जा सकता है.

संघ के शीर्ष अधिकारियों के तीन दिवसीय विचार-विमर्श सत्र में आरएसएस ने कहा, हमें उम्मीद है कि केंद्र एवं राज्य सरकारें इस तरह के देश विरोधी और असामाजिक ताकतों से कड़ाई से निपटेंगी. हमारे शैक्षणिक संस्थाओं की पवित्रता एवं सांस्कृतिक माहौल सुनिश्चित करते हुए उन्हें राजनीतिक गतिविधियों का केंद्र नहीं बनने देंगी.

बैठक में संघ के सर-कार्यवाह सुरेश जोशी द्वारा पेश की गई रिपोर्ट में कहा गया कि कुछ विश्वविद्यालयों में राष्ट्रविरोधी गतिविधियों की खबरें देशभक्त लोगों के लिए चिंता का विषय हैं.

आरएसएस का कहना है कि तीन दिवसीय इस बैठक में शैक्षिक व्यवस्था, जातिगत भेदभाव के उन्मूलन और सामाजिक सद्भाव जैसे मुद्दों पर चर्चा होगी. साथ ही समय के साथ कदमताल करने के लिए गणवेश में भी बदलाव पर विचार होगा.

संघ की ये बैठक ऐसे समय में हो रही है जब जेएनयू मसला, हैदराबाद में दलित छात्र की आत्महत्या, शिक्षा के भगवाकरण और असहिष्णुता के मुद्दे पर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर हमले हो रहे हैं और पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव की घोषणा हो चुकी है.

First published: 12 March 2016, 12:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी