Home » इंडिया » RSS Chief Mohan bhagwat says congress mukt bhaart is not our ideology this is a political slogan
 

पीएम मोदी के नारे के विरोध में मोहन भागवत, बोले- हमारी ऐसी विचारधारा नहीं

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 April 2018, 9:38 IST

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत एक बार फिर बीजेपी से खफा नजर आ रहे हैं. भागवत ने कहा है कि 'कांग्रेस मुक्त भारत' बस एक राजनीतिक मुहावरा है, न कि संघ की भाषा का हिस्सा. भागवत ने कहा कि वो राष्ट्र निर्माण की प्रक्रिया में सभी को शामिल करना चाहते हैं उन लोगों को भी जो संघ का विरोध करते हैं.

आरएसएस प्रमुख ने समावेशी चरित्र पर जोर दिया. भागवत ने कहा, ''हमें राष्ट्र निर्माण की प्रक्रिया में सभी लोगों को शामिल करना है, उन लोगों को भी जो हमारा विरोध करते हैं. ''

पुणे में एक पुस्तक विमोचन के कार्यक्रम में पहुचें भागवत ने कहा, ''ये राजनीतिक नारे हैं. यह आरएसएस की भाषा नहीं है. मुक्त शब्द राजनीति में इस्तेमाल किया जाता है. हम किसी को छांटने की भाषा का कभी इस्तेमाल नहीं करते. हमें राष्ट्र निर्माण की प्रक्रिया में सभी लोगों को शामिल करना है, उन लोगों को भी जो हमारा विरोध करते हैं."

भागवत1983 बैच के भारतीय विदेश सेवा के अधिकारी ध्यानेश्वर मुलेकी छह पुस्तकें लांच करने के लिए यहां आए थे. मुले विदेश मंत्रालय में फिलहाल सचिव (कांसुलर, पासपोर्ट, वीजा और ओवरसीज इंडियन अफेयर्स) हैं.

 

प्रधानमंत्री मोदी ने किया है इस नारे का इस्तेमाल

फरवरी में संसद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि वह महात्मा गांधी के कांग्रेस मुक्त भारत के सपने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं और उन्होंने देश की इस सबसे पुरानी पार्टी पर सत्ता में रहने के दौरान देश की विकास की कीमत पर गांधी परिवार का महिमामंडन करने का आरोप लगाया था.

आरएसएस प्रमुख ने बदलाव लाने के लिए सकारात्मक पहल की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा कि नकारात्मक दृष्टि वाले बस संघर्षों और विभाजन की ही सोचते हैं. उन्होंने कहा- ऐसा व्यक्ति राष्ट्र निर्माण की प्रक्रिया में बिल्कुल ही उपयोगी नहीं है.

 

 

First published: 2 April 2018, 9:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी