Home » इंडिया » 2 Pakistani army posts and 5 terror launch pads destroyed during surgical strike reports Organiser
 

आरएसएस ने कहा- सर्जिकल स्ट्राइक में पाक सेना की 2 चौकियां भी हुई थीं तबाह

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 October 2016, 10:22 IST
(फाइल फोटो)

पिछले महीने हुए भारतीय सेना के सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर दावों का दौर जारी है. हालांकि डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशंस की ओर से आतंकियों के मारे जाने और पाकिस्तानी सेना को नुकसान को लेकर कुछ साफ-साफ नहीं बताया गया था. डीजीएमओ लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने कहा था कि आतंकियों के लॉन्च पैड को बड़ा नुकसान हुआ है.

29 सितंबर को हुई इस सर्जिकल स्ट्राइल को लेकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मुखपत्र ऑर्गनाइजर में बड़ा दावा किया गया है. आरएसएस के मुखपत्र में एक लेख के जरिए कहा गया है इस हमले के दौरान आतंकियों के पांच लॉन्च पैड के अलावा पाकिस्तानी सेना की दो चौकियों को भी भारतीय पैरा कमांडो ने तबाह कर दिया था.

सीसीएस को हमले का प्लान बताया

ऑर्गनाइजर के लेख के मुताबिक, "तबाह हुई यह दोनों पोस्ट आतंकियों के लॉन्च पैड के साथ बनी हुई थीं. इसी वजह से सेना ने इनको निशाना बनाया. सेना ने जो टारगेट चुना था, वो उरी की 19वीं डिवीजन, कुपवाड़ा की 28वीं डिवीजन और राजौरी की 25वीं डिवीजन के अधिकार क्षेत्र में था."

संघ के मुखपत्र ऑर्गनाइजर के ताजा अंक में छपी रिपोर्ट में लिखा है, "एच आवर 28 सितंबर की आधी रात का वक्त था. सेना की शब्दावली में एच आवर से मतलब उस वक्त से है, जब हमला करना होता है."

लेख के मुताबिक, "28 सितंबर को कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी यानी सीसीएस को हमले का प्लान बता दिया गया था. इस स्ट्राइक का मकसद पाक कब्जे वाले कश्मीर में आतंकियों के अड्डों को निशाना बनाने के साथ पाकिस्तान को ये संदेश देना भी था कि भारत हमलावरों को सजा जरूर देगा."

मिलिट्री ऑपरेशंस रूम में हलचल

ऑर्गनाइजर की रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर फौरन सहमति बनी थी. मिलिट्री ऑपरेशंस रूम में 28 सितंबर से 29 सितंबर की सुबह तक हलचल रही.

रिपोर्ट के मुताबिक हमले के समय से कुछ घंटे पहले कुपवाड़ा डिवीजन ने ऑपरेशन वाली जगह की उल्टी दिशा में पाकिस्तानी सेना को भटकाने के लिए चौकियों पर छोटे हथियारों से फायरिंग करते हुए मोर्टार से गोले दागे.

रिपोर्ट में कहा गया है, "रात को 2 बजे भारतीय कमांडो हमला बोल चुके थे. भारतीय सेना ने आतंकियों के पांच लॉन्च पैड के साथ पाक सेना की दो चौकियों को भी तबाह कर दिया. टेरर लॉन्च पैड पर जो भी मौजूद था, सभी को भारतीय सेना ने ढेर कर दिया."

जाहिर है सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर अलग-अलग दावे सामने आ रहे हैं. वहीं अंग्रेजी अखबार द हिंदू की रिपोर्ट में दावा किया गया था कि पांच साल पहले यूपीए के शासनकाल में भी ऑपरेशन जिंजर नाम से सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया गया था. जिसमें पाक सेना के आठ सैनिक मारे गए थे.

First published: 10 October 2016, 10:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी