Home » इंडिया » rss statement on Bhagwa Dhwaj
 

आरएसएस ने दी भगवा ध्वज फहराने को लेकर सफाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 February 2016, 16:45 IST

सोशल मीडिया पर भगवा और तिरंगा को लेकर संघ के ऊपर हो रहे हमले का अब संघ ने जवाब दिया है. अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर संघ ने भगवा ध्वज के चयन का कारण बताया है.

सोमवार को आरएसएस ने फेसबुक पेज पर लिखा है, 'भगवा ध्वज का निर्माण संघ ने नहीं किया है और न ही उसका इरादा कोई अलग झंडा बनाने का है. संघ ने भगवा ध्वज इसलिए स्वीकार किया है क्योंकि यह हजारों सालों से "राष्ट्र धर्म" का प्रतीक रहा है.'

सोशल मीडिया पर वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल ने आरएसएस के भगवा ध्वज फहराने के लेकर सवाल उठाया था. उन्होंने अपने फेसबुक स्टेटस में साल 2001 के उस मामले से जुड़े दस्तावेज भी शेयर किए जिनमें तीन युवकों को आरएसएस मुख्यालय में झंडा फहराने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. उन्होंने अपने फेसबुक स्टेटस में लिखा था कि 26 जनवरी 2001 को नागपुर मुख्यालय पर झंडा फहराने पहुंचे तीन युवकों को आरएसएस ने जेल भिजवाया था. केस नंबर 176/ 2001.

rss.jpg

दिलीप मंडल फेसबुक पर लिखते हैं,  'जब भी कोई संघ वाला देशभक्ति की बात करे, उसे कहिए केस नंबर 176, नागपुर, 2001. वह शर्म से सिर झुका लेगा. हां, यह तभी होगा अगर उनमें लाज बची हो. इस घटना की शर्म की वजह से अब संघ ने कहीं कहीं राष्ट्रीय झंडा फहराना शुरू कर दिया है.'


dilipmandal.jpg

2013 में पीटीआई में छपी खबर के अनुसार 26 जनवरी 2001 में राष्ट्रप्रेमी युवा दल के उत्तम मेंढे, विजय रमेश कलंबे और दिलीप छततानी ने आरएसएस मुख्यालय, नागपुर में तिरंगा फहराने की कोशिश की थी. उस समय केंद्र में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार थी.

fir.jpg

मामले में मुंबई पुलिस ने इन तीनों पर केस दर्ज भी किया था हालांकि, सबूतों के अभाव कोर्ट ने इन्हें छोड़ दिया था.  

fir-1.jpg

First published: 22 February 2016, 16:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी